अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मिशन उद्घाटन-शिलान्यास पर ब्रेक

लोकसभा चुनाव की तिथियों की घोषणा के साथ ही बिहार में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है। इधर बिहार में चुनावी तैयारियों के मद्देनजर अगले दो तीन दिनों में चुनाव आयोग की पूरी टीम के पटना पहुंचने की संभावना है। दूसरी ओर आचार संहिता के कारण राज्य में सरकारी सेवकों के स्थानांतरण-पदस्थापन पर रोक लग गयी है। उद्घाटन और शिलान्यास पर भी पूरी तरह प्रतिबंध होगा। नई सरकारी घोषणाएं नहीं की जा सकेंगी। इसके अलावा केन्द्र और राज्य सरकार द्वारा घोषित योजनाएं जो शुरू नहीं हुई हैं उनपर भी रोक होगी। विधायक और सांसद फंड के इस्तेमाल पर रोक होगी। डिफेसमेंट ऑफ प्रोपर्टी एक्ट का सख्ती से पालन होगा।ड्ढr ड्ढr इसके अतिरिक्त चुनाव कार्य, चुनाव प्रचार अथवा चुनाव संबंधी यात्रा में सरकारी वाहनों के उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। मुख्य चुनाव अयुक्त एन.गोपालास्वामी ने सोमवार को बिहार में चार चरणों में चुनाव की घोषणा की। यह रोक आदर्श आचार संहिता की समाप्ति यानि चुनाव कार्य संपन्न होने तक प्रभावी होगी। बिहार में लोकसभा की 40 सीटें हैं। करीब 5 करोड़ 42 लाख मतदाता हैं और करीब 57 हजार हजार बूथ हैं। लोकसभा चुनाव में फोटोयुक्त मतदाता सूची का पहली बार प्रयोग होगा। मतदान के लिए करीब 0 हजार इलेक्ट्रॅािनक वोटिंग मशीन का प्रयोग होगा।ड्ढr ड्ढr आयोग ने इस बार के चुनाव के लिए खासतौर पर नई तरह की ईवीएम मशीन उपलब्ध करायी है। इसमें वोटिंग शुरू होने और समाप्त होने का समय रिकार्ड किया जा सकेगा। बूथों पर और आसपास के इलाकों पर निगाह रखने के लिए माइक्रो ऑब्जर्वर को तैनात करने की भी तैयारी है। इधर निर्वाचन विभाग के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार अगले दो-तीन दिनों में आयोग की पूरी टीम बिहार दौर पर आ सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मिशन उद्घाटन-शिलान्यास पर ब्रेक