DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नए परिसीमन से मतदाताओं में उत्साह

नये परिसीमन ने दरभंगा लोकसभा क्षेत्र में शामिल हुए मतदाताओं में नया जोश भर दिया है। उमंग से भर मतदाताओं ने कहा कि इस नए क्षेत्र में शामिल होने से इलाके के समुचित विकास के साथ ही उनमें राजनीति की मुख्यधारा में बहने का अहसास अभी से होने लगा है। बिरौल के सुपौल निवासी प्रो. विमल चन्द्र झा के लिए नए परिसीमन ने तो जैसे विकास के नए द्वार खोल दिए है। दशकों से रोसड़ा लोकसभा क्षेत्र का अंग रहे इलाके में इस बार राजनीति को नई हवा बह रही है। जिला मुख्यालय में अपने सांसद को पाने का अहसास उन्हें अभी से रोमांचित कर रहा है।ड्ढr ड्ढr उन्होंने कहा कि पहले दरभंगा के लोग उन्हें उपेक्षित समझते थे लेकिन अब हर वह नेता उन्हें पूछ रहा है क्योंकि वे भी उनकी तरह दरभंगा लोकसभा क्षेत्र की तकदीर का फैसला करंगे। गौराबौराम के कसरौर निवासी दिनेश मंडल को भी नए परिसीमन से उम्मीदें बढ़ी हैं लेकिन उन्हें गम है कि नजदीक के बाजार को समस्तीपुर लोकसभा क्षेत्र में जोड़कर उनकी ताकत कम कर दी गई। इसके विपरीत बिरौल के नेउरी निवासी शंकर साह नए परिसीमन से बेहद उत्साहित हैं। घनश्यामपुर के झगरुआ निवासी युवक मुख्तार अहमद की तो जैसे बांछें खिल गई हैं। दरभंगा जैसी प्रतिष्ठित सीट के पहली बार मतदाता बने मुख्तार ने कहा कि अब झगरुआ में भी विकास की गंगा बहने की उम्मीद जगी है।ड्ढr ड्ढr चुनाव तक नहीं होगी विकास यात्राड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में एनडीए का मुख्य चुनावी मुद्दा विकास और केन्द्र की नाइंसाफी होगा। यूपीए ने बिहार की तरफ आने वाली विकास की हरक धारा को रोक दिया है। लोजपा की ओर इशारा करते हुए श्री कुमार ने कहा कि कुछ लोग जनता को धोखा देने के लिए शैडो बॉक्िसंग कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने आचार संहिता की वजह से अब विकास यात्रा को रोकने की घोषणा की और रलमंत्री के कार्यक्रमों पर चुटकी ली कि अब टीटीएस (ताबड़तोड़ शिलान्यास) कार्यक्रम भी बन्द हो जायेगा। सोमवार को 1, अणे मार्ग में संवाददाताओं से बात करते हुए श्री कुमार ने चुनाव आयुक्त नवीन चावला को राहत दी। उन्होंने कहा कि महंगाई, मंदी और छंटनी को राष्ट्रीय स्तर पर मुद्दा बनाया जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नए परिसीमन से मतदाताओं में उत्साह