अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

काले धन और माफिया पर रोक लगे

यह ब्लैकमेंलिंग है दिल्ली के स्कूल जिस तरह से बच्चों के अभिभावकों से एरियर मांग रहे हैं, वह शुद्ध ब्लैकमेलिंग है। डर यह भी है कि स्कूल अब फाइनेंस कंपनियों की तरह ही वसूली के लिए गुंडों की सेवाएं न लेने लगें। गलती सरकार की भी है। उसे वेतन आयोग की सिफारिशें स्वीकार करते समय ही यह भी स्पष्ट कर देना चाहिए था कि एरियर अभिभावकों से नहीं वसूला जाएगा। अब एक ही तरीका है कि चुनाव के समय सरकार को सबक सिखाया जाए। पूनम अहूाा, लाजपत नगर चुनाव से पहले घूंघट उठा महान भारत के राजनेता वोट ऐंठने के चक्कर में घूंघट उठाकर व चेहर चमका कर जनता को बार-बार गले लगाते हैं। घूंघट हर पांच साल में सिर्फ चुनाव के दौरान ही उठता है। आने वाले लोकसभा चुनाव में ऐसे बिना घूंघट के नए चुवा चेहर राजनैतिक अखाड़े में उतरं जो कि जागरूक होकर विकास कार्यो को पूरा कराने में रुचि रखते हों व उनको जनहित से लगाव हो। रोशन लाल बाली, महरौली, नई दिल्ली राजनेता सावधान ! हाल ही में पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति एवं चीनी प्रधानमंत्री पर इंटरव्यू के दौरान जूता फेंक कर मारने की घटना घटने के बाद अब हमार देश के राजनेताओं को भी सचेत हो जाना चाहिए आशंका है कहीं ऐसी घटना हमार देश में भी घटित न हो जाए। न जाने देश के किस क्षेत्र में मतदाता अपनी मांग पूरी न होने के चक्कर में अपना रोष प्रकट करने के लिए परंपरागत पुराने तरीके छोड़कर इस प्रकार का यह नया तरीका ही न अपना लें वहां पर तो उन लोगों के निशाने चूक गए, पर हम भारतीयों में ऐसे कई अजरुन हैं जिनके निशाने हमेशा अचूक ही रहते हैं। प्रेमनारायण वेद, इंदौर, मध्य प्रदेश ये भी घर-गृहस्थी वाले हैं लोकसभा चुनावों से पहले मास्टर प्लान के तहत 24 श्रेणियों के कारोबारियों को ट्रेड लाइसेंस से मुक्त रखा गया है। समाज में कारोबारियों का और ग्राहकों का रिस्ता ‘पतंग और डोर’ की तरह है। दोनों ही एक दूजे के लिए बने हैं, परंतु इस श्रेणियों में कुछ गरीब कारोबारियों के काम-धंधों का उल्लेख नहीं है जसे जूस की दुकान, स्कूटर-मोटर साइकिल रिपेयरिंग, शू-रिपेयरिंग, मनीहार, कुम्हार, भड़भूजा, रूई धुनने वालों की दुकान, सुनार का कार्य करने वालों की दुकान, प्रसिद्ध जलेबी, छोले भटूर, चोट-मोच ठीक करने वाले पहलवानों की दुकान, फोटो फ्रेम की दुकान, बैग-बस्ते की दुकान, टय़ूशन सेंटर, साइकिल-रिक्शा मरम्मत की दुकान, चाकू-कैंची में धार लगाने वालों की दुकान और साज-संगीत के उपकरणों की दुकान। राजेन्द्र कुमार सिंह, रोहिणी, दिल्लीं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: काले धन और माफिया पर रोक लगे