DA Image
27 फरवरी, 2020|3:45|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सद्दाम को सत्ता से हटाने को ब्लेयर-बुश में हुआ था गुप्त वादा

ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर ने इराक युद्ध शुरू होने के कई दिन पहले ही तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति जार्ज डब्लू बुश से गुप्त रूप से वादा किया था कि इराकी राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन को सत्ता से हटाने के लिए की गई किसी भी सैन्य कार्रवाई का उनका देश समर्थन करेगा।

द टाइम्स के मुताबिक ब्लेयर के प्रवक्ता रहे एलेस्टेअर कैंपबेल ने इराक युद्ध की जांच के लिए बनाए गए जांच आयोग के समक्ष मंगलवार को यह खुलासा किया। उन्होंने बताया कि ब्लेयर ने इस संबंध में बुश को कई अत्यंत गोपनीय संदेश भेजे थे। कैंपबेल ने कहा कि इतिहास के सबसे क्रूर तानाशाही को खत्म करने में निभाई गई भूमिका के लिए एक देश के रूप में हमें अत्यंत गर्व महसूस करना चाहिए।


कैंपबेल ने बताया कि ब्लेयर द्वारा बुश को भेजे गए संदेश अत्यंत संवेदनशील थे जिनको कैबिनेट के कई वरिष्ठ सदस्यों ने भी नहीं देखा था। उन्होंने बुश को भेजे गए संदेशों का सार बताते हुए कहा कि बुश को भेजे गए संदेशों में ब्लेयर ने अपने विचार तथा आपसी चिंताओं को साझा किया।

ब्लेयर ने कहा कि इराक को शस्त्र विहिन किए जाने तथा सद्दाम हुसैन को सत्ता से हटाने के लिए हम आपके साथ हैं। यदि यह कार्य राजनयिक तरीके से नहीं हो पाया तो इस संबंध में की गई सैन्य कार्रवाई का ब्रिटेन समर्थन करेगा।

कैंपबेल ने खुलासा किया कि ब्लेयर ने सेना प्रमुख को अमेरिका द्वारा इराक पर की जाने वाली सैन्य कार्रवाई का समर्थन करने के लिए कहा था। इराक युद्ध की जांच के लिए बनाई गई पांच सदस्यीय जांच समिति के समक्ष सबसे आखिर में ब्लेयर को भी अपना वक्तव्य देना है।

ग्यातव्य है कि ब्लेयर ने ब्रितानी संसद में झूठा दावा किया था कि सद्दाम हुसैन व्यापक विनाश के हथियार बना रहा है और इस संबंध में उनके पास इस बात का पुख्ता सबूत हैं। उन्होंने चेतावनी दी थी कि इन हथियारों को मात्र 45 मिनट के अंदर तैनात किया जा सकता है। प्रधानमंत्री के इस दावे के बाद ब्रिटिश सेना इराक युद्ध में शामिल हुई थी लेकिन इस नवीनतम खुलासे ने इराक युद्ध की हकीकत सामने ला दी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:ब्लेयर-बुश में हुआ था गुप्त वादा