DA Image
4 जून, 2020|8:49|IST

अगली स्टोरी

भारत में बस सकती है प्रभाकरन की मां: राजपक्षे

श्रीलंका के राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे ने मंगलवार को कहा कि मारे जा चुके लिट्टे प्रमुख वेल्लुपिल्लई प्रभाकरन की मां और सास यदि चाहें तो भारत में जाकर बसने के लिए स्वतंत्र है।

हालांकि प्रभाकरन की मां पार्वती पिल्लई और सास ईराम्बू ने सार्वजनिक रूप से अपने भविष्य को लेकर कोई घोषणा नहीं की है। लेकिन एमडीएमके नेता वाइको तथा प्रभाकरन के चचेरे भाई राजेन्द्रन ने श्रीलंका सरकार से उसकी बुजुर्ग मां पार्वती को तमिलनाडु भेजे जाने को कहा था।

प्रभाकरन के पिता वेल्लुपिल्लई का पिछले दिनों देहांत होने के बाद इन महिलाओं के घरों में कोई पुरुष नहीं बचा है। उसका बड़ा बेटा चार्ल्स एंथनी अपने पिता से कई दिन पहले उत्तरी श्रीलंका में मारा गया था। प्रभाकरन के मारे जाने के सात महीने बाद भी उसकी पत्नी तथा छोटे बेटे के पते ठिकाने को लेकर रहस्य बना हुआ है।

राजपक्षे ने कहा कि प्रभाकरन के पिता वेल्लुपिल्लई के अंतिम अवशेषों के प्रति सम्मान बरता गया और अंतिम संस्कार के लिए कई वाहन भी उपलब्ध कराए गए। राष्ट्रपति ने कहा कि उन्हें बताया गया कि लिट्टे प्रमुख के पिता के अंतिम संस्कार में 300 से अधिक लोगों ने भाग लिया तथा इस सप्ताह के शुरुआत में जाफना में हुए संस्कार में पार्वती और एराम्बू भी मौजूद थीं।

वेल्लुपिल्लई का पिछले सप्ताह 86 वर्ष की उम्र में निधन हो गया था। अपनी मौत के समय वह वेस्टर्न प्रोविंस के पनागोडा में सैन्य शिविर में थे जहां सेना के कई बड़े अस्पताल हैं। इससे पूर्व, पिछले वर्ष मई में लिट्टे के परास्त होने के बाद से प्रभाकरन के माता-पिता वान्नी क्षेत्र में सैन्य संरक्षण में रह रहे थे। सरकार बार-बार कहती रही है कि उन्हें अच्छी स्थितियों में रखा जा रहा है।

हालांकि उनके बेटे ने देश के उत्तरी और पूर्वी हिस्से में तमिलों को अलग होमलैंड बनाने के लिए 25 साल तक सैन्य संघर्ष किया, लेकिन प्रभाकरन के पिता ने 39 सालों तक श्रीलंका सरकार में काम किया। सिलोन सरकारी रेलवे में 1943 में उन्होंने बतौर क्लर्क अपने कैरियर की शुरुआत की थी।
 उन्हें कई पदोन्नतियां भी मिलीं और वह 1982 में भूमि बंदोबस्त विभाग से भू-अधिकारी के रूप में सेवानिवृत हुए।

उदारवादी विचारों के वेल्लुपिल्लई ने कभी भी अपने बेटे के उग्रवादी तेवरों का समर्थन नहीं किया और काफी लंबे समय से उनकी अपने बेटे से बोलचाल भी नहीं थी। एक मीडिया रिपोर्ट में यह दावा किया गया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:भारत में बस सकती है प्रभाकरन की मां: राजपक्षे