अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूर्णिया में कालाजार ने पसारा पांव

डीडीटी छिड़काव में कोताही बरते जाने से पूर्णिया जिले में कालाजार की स्थिति विस्फोटक हो गयी है। आलम यह है कि पिछले एक पखवार में केवल पूर्णिया सदर अस्पताल में बच्चे व महिलाओं समेत सौ से ज्यादा कालाजार प्रभावित मरीजों को भर्ती किया गया है। दरअसल डीडीटी का समुचित छिड॥काव नहीं किये जाने के कारण पिछले साल से ही जिले में कालाजार की स्थिति विस्फोटक बनी हुई है। गौरतलब है कि पिछले साल ही जिले में कालाजार रोगियों का आंकड़ा दो हजार पार कर गया है। इसमें एक रोगी की मौत भी विभागीय रिकार्ड में दर्ज है। जबकि सर्वाधिक चिंताजनक तथ्य यह है कि केवल पूर्णिया अनुमंडल में अबतक पांच सौ से ज्यादा लोग कालाजार की चपेट में आ गये हैं।ड्ढr ड्ढr फिलहाल पिछले साल के रिकार्ड के अनुसार, पूर्णिया पूर्व में 104, कसबा में 22जलालगढ़ में श्रीनगर में 83, बनमनखी में 285, धमदाहा में 103, बीकोठी में 131, भवानीपुर में 77, रूपौली में 125, डगरुआ में 21, बायसी में 14 एवं अमौर में 38 कालाजार रोगी चिह्न्ति किये गये। पिछले साल महज पंद्रह दिनों में डीडीटी छिड़काव की रस्म पूरी कर दिये जाने से कालाजार का आउटब्रक हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पूर्णिया में कालाजार ने पसारा पांव