DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मंच पर मिले मोदी व नीतीश के हाथ

लोकसभा चुनाव के अंतिम दौर में एनडीए ने रविवार को यहां अपनी एकाुटता व शक्ित का जबरदस्त प्रदर्शन किया। यहां आयोजित रैली में एनडीए के पीएम इन वेटिंग लालकृष्ण आडवाणी, राजग के सात राज्यों के मुख्यमंत्री और सभी घटक दलों के वरिष्ठ नेता शामिल हुए। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और गुजरात के मुख्यमंत्री नरंद्र मोदी एक साथ मंच पर नजर आए तथा दोनों ने एक साथ हाथ उठाकर जनता का अभिवादन भी किया और यह दिखाने की कोशिश की कि दोनों में कोई मतभेद नहीं है। मोदी ने तो अपने सम्बोधन में नीतीश की तारीफों के पुल बांध दिए। उन्होंने कहा कि नीतीश न बिहार का समुचित विकास किया है। नीतीश ने पंजाब में बसे बिहार के लोगों से अकाली-भाजपा उम्मीदवारों के पक्ष में वोट देने की अपील की।ड्ढr ड्ढr नीतीश ने कहा कि कोसी आपदा के बार में जारी 1000 करोड़ रुपए की ग्रांट केंद्र ने वापस मांगी ली है जो कि बिहार के साथ अन्याय है। उन्होंने कहा कि बिहार में जैसे ही अंतिम चरण का मतदान खत्म हुआ उसके 20 मिनट बाद ही केंद्र सरकार से फैक्स आ गया कि बाढ़ राहत के लिए दी गई राशि को राज्य सरकार वापस लौटा दे। उन्होंने रैली में आए लोगों से पूछा कि क्या आपदा प्रबंधन के लिए भेजा गया पैसा वापस होता है? टीआरएस प्रमुख के चंद्रशेखर राव की मंच पर उपस्थिति ने भी एनडीए की इस रैली को मजबूती प्रदान की। इस मौके पर टीआरएस औपचारिक तौर पर राजग मं शामिल हो गया। रैली में उमड़ी भीड़ व मंच पर एनडीए के सभी नेताओं की उपस्थिति से गद्गद् आडवाणी ने कहा कि गठबंधन के 11 वर्ष के समय में ऐसी ऐतिहासिक रैली नहीं हुई। उन्होंने कहा कि इससे एनडीए की मजबूती का संदेश आम जनता में जाएगा और गठबंधन को ताकत मिलेगी। दूसरी ओर, पांच साल पहले अस्तित्व में आया यूपीए बिखर रहा है। नरन्द्र मादी न मंच पर तमिलां का मुद्दा उठाया और यूपीए पर निशाना साधत हुए कहा कि व तमिलां की सुरक्षा करन मं नाकाम है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मंच पर मिले मोदी व नीतीश के हाथ