अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सपा ने गठबंधन धर्म नहीं निभाया : कांग्रेस

ांग्रेस ने समाजवादी पार्टी (सपा) पर सहयोगी धर्म का पालन नहीं करने का आरोप लगाते हुए बुधवार को कहा कि उसे उत्तर प्रदेश में आपसी विचार-विमर्श के बाद ही उम्मीदवारों की घोषणा करना चाहिए था। कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश के प्रभारी दिग्विजय सिंह ने संवाददाताआें से कहा कि सहयोगी का यह धर्म होता है कि मिलकर उम्मीदवारों के नामों की सूची घोषित की जाए, लेकिन देखने में आया है कि वह अपनी तरफ से उम्मीदवार घोषित करते जा रहे हैं, उचित होता कि अपनी सीट घोषित करने से पहले वे चर्चा कर लेते। सिंह ने राष्ट्रीय जनता दल, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, लोक जनशक्ित पार्टी, द्रविड मुनेत्र कषगम (द्रमुक), तृणमूल कांग्रेस आदि का नाम लेते हुए कहा कि हमारे अन्य सहयोगी दलों में से किसी ने भी उम्मीदवारों के नामों की एकतरफा घोषणा नहीं की है। उन्होंने कहा कि वह सपा पर कोई आरोप नहीं लगा रहे हैं, लेकिन उसका एकतरफा उम्मीदवार घोषित करना असामान्य अवश्य है। यह पूछे जाने पर कि क्या उत्तर प्रदेश मंे सीटों के तालमेल के लिए सपा के साथ बातचीत टूट गई है। उन्होंने इसका सीधा उत्तर दिए बिना कहा कि राजनीति में नामांकन पत्र दाखिल करने के अंतिम दिन तक बातचीत चलती रहती है। हमारी तरफ से बातचीत के द्वार बंद नहीं हुए हैं। उन्होंने इस बात का खुलासा करने से इनकार कर दिया कि कांग्रेस उत्तर प्रदेश में कितनी सीटों पर चुनाव लड़ेंगी। यह पूछे जाने पर कि सपा से समझौता नहीं होने पर क्या पार्टी प्रदेश की सभी 80 सीटों पर चुनाव लड़ेगी, उन्होंने कहा कि पार्टी को हर स्थिति के लिए तैयार रहना चाहिए। इस बीच कांग्रेस उत्तर प्रदेश के लिए अपने लोकसभा उम्मीदवारों की सूची आज शाम ही जारी करने वाली है। कांग्रेस महासचिव एवं उत्तर प्रदेश प्रभारी दिग्विजय सिंह ने बताया कि यह सूची आज शाम तक जारी कर दिए जाने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि कुछ समाचार चैनलों में जो सूची बताई जा रही है वह अधिकृत सूची नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सपा ने गठबंधन धर्म नहीं निभाया : कांग्रेस