DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भावी प्रधानमंत्री कौन?

अपने मुहल्ले के माननीय छज्जूलाल जी के प्रधानमंत्री बनने की संभावनाएं बहुत ज्यादा हैं। ऐसा है कि अपने शहर के सबसे व्यस्त चौक के नामकरण का विवाद जोरों पर था। झगड़ा दो बड़े नेताओं में था, एक थे दौलतमल जी, जो अपने पिता डमरूमल के नाम पर नामकरण करना चाहते थे, दूसर थे टीकाराम जी जो अपने पिता भीकाराम जी के नाम पर इस चौक का नाम रखना चाहते थे। दोनों में विवाद हुआ, विवाद इतना बढ़ा कि उसका हल मुश्किल लगने लगा। तब समझदार लोगों ने कहा कि चूंकि इस चौक पर एक बार झंडा फहराया गया था सो चौक का नाम झंडा चौक कर दिया जाए। चौक का नाम झंडा चौक हो गया। छज्जू लाल जी को सिर्फ यह कहना था कि दरअसल चौक का नाम तो उनके पिता के नाम पर रखा गया है। उनके पिता का नाम झंडामल था, इसे संयोग कहिए या जो कुछ, लेकिन जीत तो छज्जू लाल जी की ही हुई न। इसी तरह छज्जूलाल जी के प्रधानमंत्री बनने की भी पूरी-पूरी संभावना है। उनके पक्ष में कई बातें जाती हैं, एक तो यह कि वे चुनाव नहीं लड़ेंगे, इसकी वजह यह है कि कोई पार्टी उन्हें टिकट नहीं देगी और चुनाव जसी चीज उन्हें अपने पैसे पर निर्दलीय लड़ना पड़े, यह उन्हें कभी गवारा नहीं। उन्हें कोई पार्टी टिकट नहीं देगी, इसकी वजह यह है कि वे किसी पार्टी में नहीं हैं। अब दो चीजें तो साफ हो गईं- एक, वे चुनाव नहीं हारंगे, दो, उनकी किसी पार्टी से दोस्ती या दुश्मनी नहीं होगी। चूंकि उनकी पार्टी कोई नहीं है तो एक बात स्पष्ट है कि उनका कोई सांसद भी नहीं होगा, इसलिए उनकी किसी से प्रतिस्पर्धा भी नहीं होगी। शरद पवार उन्हें संदेह से नहीं देखेंगे, मायावती उन्हें प्रतिद्वंद्वी नहीं मानेंगी, नायडू, जयललिता, स्टीफन, मरांडी, देवेगौड़ा किसी को उनसे कोई खतरा महसूस नहीं होगा। मनमोहन सिंह या लालकृष्ण आडवाणी की बात तो अलग है। भारत-अमेरिका परमाणु संधि पर उन्होंने कोई विचार व्यक्त नहीं किया है, न ही नंदीग्राम पर उनकी कोई राय है। सो न वाम दलों न ममता बनर्जी को उनसे कोई समस्या हो सकती है। और लोकसभा चुनाव के बाद जब सार नेताओं के अपने-अपने सांसदों की तादाद एक-दूसर को निष्प्रभावी कर देगी तब छज्जू लाल जी सबसे आगे होंगे क्योंकि वे शुरू से ही शून्य की संख्या पर बैठे होंगे। क्या आपको नहीं लगता ऐसे में उनके नाम पर आम सहमति हो सकती है? हो सकता है कि सहमति न बने और वे प्रधानमंत्री न बन पाएं, लेकिन तब जो प्रधानमंत्री होगा वह भी कोई छज्जूलाल ही होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भावी प्रधानमंत्री कौन?