DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रॉकेट लांचर-मोर्टार गोलियां नहीं, बरसाएंगे रंग

जनाब! जरा खबरदार ही रहिए, संभव है कोई नकाबपोश अचानक हैंडग्रेनेड.. राकेट लांचर..या मोर्टार लेकर आपके सामने कूद पड़े। फिर न तो आपके पास संभलने का मौका होगा और न ही बचने का। ..अर भाई! डर गए क्या। हैंडग्रेनेड से न तो धमाका होगा और न ही राकेट लांचर या मोर्टार से गोलियां बरसेंगी। इनसे तो रंगों की बौछार होगी। अबकी होली पर हैंडग्रेनेड, राकेट लांचर और मोर्टार जैसी पिचकारियां आ गई हैं। दुनियाभर में डंका बजाने वाले महाबली खली और धोनी की धूम भी मची है। ‘लालू का गोलू’ भी खूब पंसद किया जा रहा है।ड्ढr ड्ढr होली चंद दिनों बाद है। बाजार में रौनक तो है ही, जगह-जगह पिचकारियों की दुकानें भी सज गई हैं। परंपरागत पिचकारियां तो मिल ही रही हैं, बल्कि अत्याधुनिक असलहों जैसी पिचकारियां भी आ गई हैं। दुकानदारों की मानें तो मुंबई हमले में आतंकियों ने हैंडग्रेनेड से खूब धमाके किए। इस कारण अबकी बच्चों में इस आकार की पिचकारी की डिमांड है। मार्केट में चाइनीज पिचकारियां भी खूब दिख रही हैं। पटना सिटी में पिचकारियों के थोक व्यापारी साजन भाई पिचकारी वाला का कहना है कि मंदी भले हो, लेकिन कारोबार शानदार चल रहा है। ड्ढr मार्केट में हैंडग्रेनेड, लालू का गोलू पिचकारी की धूमड्ढr हैंडग्रेनेड : यह पिचकारी बच्चों में काफी लोकप्रिय है। इससे भले ही कम दूरी से ही लोगों पर रंग की बौछार की जा सकती है, लेकिन अपनी रूपरखा के चलते बच्चे इसे पसंद कर रहे हैं।ड्ढr राकेट लांचर : इस पिचकारी से 50 से 100 फीट तक की दूरी पर खड़े व्यक्ित को रंग से सराबोर किया जा सकता है। यह मूवेबुल है, इसलिए बगैर घूमे भी कई लोगों को रंग से भिंगोया जा सकता है।ड्ढr ड्ढr लालू का गोलू : बिहार हो और लालू यादव की चर्चा न हो, ऐसा कैसे संभव है। मार्केट में ‘लालू का गोलू’ पिचकारी भी धूम मचा रहा है।यह दिखने में सामान्य है, पर इसकी रां 65 से 125 फीट है।ड्ढr तेनालीराम : यह पिचकारी भी कुछ खास ही है। यह एक साथ एक हाार फव्वारा निकलता है। इस पिचकारी से लोगों को रंगों से सराबोर करने में काफी आसानी होगी। बच्चों में इसकी खूब डिमांड है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: रॉकेट लांचर-मोर्टार गोलियां नहीं, बरसाएंगे रंग