class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पिता की कारगुजारी से बच्चा पहुंचा अनाथालय

एक साल के मासूम बच्चे को अपने पिता की कारगुजारियों के कारण अनाथालय का रुख करना पड़ा। स्थानीय कादीपुर में रहने वाला 25 वर्षीय रामकिशोर ने अपने नन्हें बेटे का मोह त्याग कर उसकी अंगुली छोड़ दी और अपने पड़ोस में रहने वाली सपना (बदला हुआ नाम) का हाथ थामकर उसको भगा ले गया। पीड़ित परिवार की शिकायत पर पुलिस उसकी तलाश में जुट हुई है।

मूल रुप से झांसी निवासी 25 वर्षीय रामकिशोर कादीपुर के पास इंडस्ट्रियल एरिया में रहता था। 15 दिसंबर को वह अपने एक साल के बेटे को अकेला छोड़कर पड़ोस में रहने वाली सपना  (बदला हुआ नाम) को भगा ले गया। पीड़ित परिवार ने सेक्टर- 10 ए में एफआईआर दर्ज करवाई और इंसानियत के नाते उस मासूम को अपने घर में रख लिया।

पुलिस ने भी उन्हें बच्चे को अपने घर रखने की सलाह दी, ताकि जब रामकिशोर का अपने बच्चों के प्रति प्रेम उमड़े और वह उसे लेने आए, तो उसे दबोचा जा सके। लेकिन, बच्चे की बदनशीबी कि 15 दिन बाद भी उस निर्दयी पिता को उसकी याद नहीं आई।

सपना का भाई ओमवीर बताता है कि रामकिशोर उनके घर के पास झुग्गियों मे रहता था। वहीं पर चिनाई का काम करता था। इतने दिन से उन्होंने उसके बच्चे को अपने पास रखा था ताकि उसके जरिए उसकी बहन का पता लग सके। लेकिन, अभी तक कोई सुराग नहीं मिल सका।

गुरुवार को सेक्टर-10 ए की पुलिस बच्चे को सामान्य अस्पताल में मेडिकल करवाने के लिए लेकर आई। सेक्टर-दस ए के एएसआई आत्मा राम के अनुसार आरोपी के इतने दिन तक न आने के बाद बच्चे को बाल ग्राम, राई भेजा जा रहा है। जबकि आरोपी की तलाश जारी है।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पिता की कारगुजारी से बच्चा पहुंचा अनाथालय