अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

600 सदस्यीय दल भेजेगा ऑस्ट्रेलिया

600 सदस्यीय दल भेजेगा ऑस्ट्रेलिया

इंग्लैंड के शीर्ष एथलीटों के राष्ट्रमंडल खेलों से हटने और सुरक्षा चिंताएं उठाए जाने की खबरों से परेशान दिल्ली राष्ट्रमंडल खेल आयोजन समिति के लिए एक बड़ी खबर है जिससे उसने राहत की सांस ली है। राष्ट्रमंडल खेलों की महाशक्ति ऑस्ट्रेलिया ओलंपिक और विश्व चैंपियन खिलाड़ियों सहित 600 एथलीटों और अधिकारियों का अब तक का सपना सबसे बड़ा दल तीन से 14 अक्तूबर तक होने वाले इन खेलों में भेजेगा। 

राष्ट्रमंडल खेलों के आयोजन को लेकर अब तक लगातार एक के बाद एक बुरी खबरों से जूझ रही आयोजन समिति के लिए ऑस्ट्रेलिया की यह घोषणा निश्चित रूप से एक बड़ी खबर है। ऑस्ट्रेलियाई राष्ट्रमंडल खेल संघ ने एक बयान जारी कर यह जानकारी दी है।

बयान में कहा गया है कि ऑस्ट्रेलिया 600 से ज्यादा एथलीटों, कोचों, मैनेजर, डॉक्टरों और अधिकारियों का विदेशी जमीन पर होने वाले किसी राष्ट्रमंडल खेल में अपना अब तक का सबसे बड़ा दल भेज रहा है। इन एथलीटों में विश्व चैंपियन स्टीव हूकर और दानी सैमुअल्स को शामिल किया गया है। हूकर ने 2008 के बीजिंग ओलंपिक में बांस कूद स्पर्धा में 6.06 मीटर की ऊंचाई पार कर नया ओलंपिक रिकार्ड बनाया था। सैमुअल्स डिस्कस थ्रो में सबसे युवा महिला विश्व चैंपियन हैं।

इतने बड़े दल के साथ साथ राष्ट्रमंडल खेल दिल्ली के लिए यह भी बड़े राहत की बात है कि किसी भी ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने अब तक भारत दौरे को लेकर सुरक्षा पर चिंता की कोई बात नहीं उठाई है। ऑस्ट्रेलियाई राष्ट्रमंडल खेल संघ के मुख्य कार्यकारी पैरी क्रॉसव्हाइट का कहना है कि किसी भी खिलाड़ी ने सुरक्षा को लेकर कोई चिंता नहीं जताई है यदि कोई सवाल उठे हैं तो वे मौसम, खेल स्थल, भोजन और खेल गांव को लेकर हैं। खिलाड़ियों की एकमात्र चिंता यही है कि इन चीजों का स्तर कैसा होगा और उस समय मौसम की क्या स्थिति रहेगी?

क्रॉसव्हाइट ने इंग्लैंड के उन मीडिया रिपोटरें के खंडन करने का भी स्वागत किया है कि जिसमें कहा गया था कि उसके एथलीट इन खेलों के दौरान आतंकवादी हमलों की आशंका के मद्देनजर इन खेलों से हट सकते हैं। उन्होंने कहा, मुझे इस बात को जान कर बहुत खुशी हो रही है कि इंग्लैंड भी अपना सशक्त दल इन खेलों में भेजेगा। हमें भी इन खेलों के दौरान अपने परंपरागत प्रतिद्वंदी इंग्लैंड के साथ मुकाबले का बेसब्री से इंतजार रहेगा।

उन्होंने उम्मीद जताई कि दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच सर्वाधिक पदक को जीतने के लिए जबर्दस्त होड़ देखने को मिलेगी। क्रॉसव्हाइट ने साथ ही कहा कि उन रिपोटरें को बिल्कुल भी तवज्जो नहीं दी जानी चाहिए जो बिना किसी प्रमाणिकता के खेलों की सफलता पर सवाल खड़े कर रही हैं।
क्रॉसव्हाइट ने हैरानी जताई कि ऐसी मीडिया रिपोटरें को बेवजह महत्व दिया जा रहा है जिनमें कहीं कोई सूत्र नहीं हैं लेकिन खेलों की सफलता पर आशंकाएं अभी से उठाई जाने लगी हैं। उन्होंने कहा कि मैं कुछ सप्ताह पहले दिल्ली से लौटा था जहां सुरक्षा मामलों को लेकर हमें संपूर्ण जानकारी दी गई थी और मैं यह मानता हूं कि इन खेलों में सुरक्षा के लिए जिन लोगों को यह जिम्मेदारी सौंपी गई है वे इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि खेलों का पूरी तरह सफल आयोजन हो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:600 सदस्यीय दल भेजेगा ऑस्ट्रेलिया