DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उल्का के खिलाफ

एपोफिस नाम के उल्का पिंड से धरती को बचाने के लिए रूस की पहल पर अमेरिका, यूरोप और चीन के अंतरिक्ष संस्थानों की एकजुटता सही अर्थों में विश्व बंधुत्व है। रूस के अधिकारी का यह तर्क सराहनीय है कि जब धरती के हजारों लोगों का जीवन खतरे में है तो न तो हाथ पर हाथ धर कर बैठा जा सकता है और न ही एक नई रक्षा प्रणाली बनाने के लिए धन खर्च करने में संकोच किया जा सकता है। वास्तव में यही वह भावना है जिससे पता चलता है कि शीतयुद्ध समाप्त हो गया है। वरना शीतयुद्ध के दौर में सोवियत संघ की तरफ से अंतरिक्ष में स्पूतनिक भेजने के बाद अमेरिका ने स्टार वार्स जैसे महंगे अंतरिक्ष कार्यक्रमों की जो होड़ शुरू की उसमें सोवियत संघ बिखर ही गया। उन स्मृतियों के बाद जब यह सुनाई पड़ता है कि रूस, अमेरिका , यूरोप और चीन मिलकर उल्का पिंड की दिशा बदलने वाला अंतरिक्ष यान तैयार करेंगे तो लगता है कि हमारे ग्रह के प्राणियों को सद्बुद्धि आ गई है। हालांकि वह उल्का पिंड न तो हाल-फिलहाल पृथ्वी के करीब आ रहा है और न ही उसके धरती से टकराने की कोई निश्चित संभावना है। सन 2004 में 270 मीटर लंबा यह पिंड जब पहली बार देखा गया तो अनुमान लगाया गया कि यह 2029 तक धरती के करीब आ सकता है। उस पर भी इसके धरती से टकराने की संभावना 37 में एक थी। लेकिन उसके बाद अंतरिक्ष विज्ञानी इसके करीब आने का वर्ष बढ़ाते जा रहे हैं और उसकी टकराने की संभावना को भी कम करते जा रहे हैं। उल्का के गमन पथ का अध्ययन करने के बाद यह भी कहा जा रहा है कि हो सकता है यह 2036 में करीब आए और तब इसके टकराने की संभावना ढाई लाख में एक की हो सकती है। किसी को यह एक काल्पनिक खतरे से निपटने के लिए हवाई तैयारी भी लग सकती है। लेकिन इस खतरे और  तैयारी का संबंध अंतरिक्ष और विशाल ब्रह्मांड में मानव जाति के अस्तित्व से है। उसके मन में अंतरिक्ष के बारे में दूसरे ग्रहों के जीवन से लेकर, उड़न तस्तरी और नक्षत्रों के युद्ध तक अनगिनत कल्पनाएं तैरती रहती हैं। भय और कौतुहल से मिले यह रहस्य मनुष्य की जिज्ञाशा, शोध और अंतरिक्ष विज्ञान के विकास को नई वजहें प्रदान करते हैं। इसलिए आज अगर ब्रह्मांड से उतर रहे किसी खतरे के बहाने इस ग्रह के प्राणी एकजुट हो रहे हैं तो यह भी बड़ी उपलब्धि है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उल्का के खिलाफ