class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिन में सपने देखने वाले ही करते हैं बड़े काम

दिन में सपने देखने वाले ही करते हैं बड़े काम

दिन में सपने देखना कोई बुरी बात नहीं है। दिन में सपने देखने वाले ही कामयाबी की मंजिल पर पहुंचते हैं, क्योंकि एक ख्वाब ही किसी व्यक्ति में लक्ष्य को पाने की ललक जगाता है।

देश के पूर्व राष्ट्रपति और प्रख्यात वैज्ञानिक एपीजे अब्दुल कलाम ने मुल्क को विजन-2020 दिया। भारत को वर्ष 2020 तक विकसित राष्ट्र बनाने की उनकी इस परिकल्पना का आधार भी वह सपना है, जिसमें हिन्दुस्तान एक तरक्कीशुदा मुल्क के रूप में दिखाई देता है।

कलाम का कहना है कि जिंदगी में ऊंचा मुकाम पाना है तो बड़े सपने देखना जरूरी है। उनके मुताबिक जो व्यक्ति ख्वाब देखता है वही उपलब्धियां भी हासिल करता है। कलाम की हिन्दी में अनूदित किताब मेरे सपनों का भारत में उन्होंने वर्ष 2020 तक भारत को विकसित राष्ट्र के रूप में देखने के अपने ख्वाब का विशद वर्णन करते हुए इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए छात्रों, युवाओं, किसानों, वैज्ञानिकों, इंजीनियरों, सैन्यकर्मियों, राजनेताओं, प्रशासकों, अर्थशास्त्रियों, कलाकारों और खिलाड़ियों को अपने-अपने क्षेत्र में योगदान के महत्वपूर्ण सुझाव दिए हैं।

वह विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े लोगों से बार-बार आह्वान करते रहे हैं कि वे बड़े सपने देखें तभी अहम मंजिल पर पहुंच सकेंगे। खुली आंखों से सपनों का मतलब है कि व्यक्ति सिर्फ सोते में ही नहीं, बल्कि सोते जागते अपने काम में इतना डूब जाए कि उसे हर पल उसी का ख्याल रहे और वह सिर्फ अपनी मंजिल के बारे में ही सोचे। कलाम भी देश के नागरिकों से यही अपेक्षा रखते हैं।

दिवास्वप्न के वैज्ञानिक पहलुओं पर नजर डालें तो दिन में ख्वाब देखने वाले लोग दुनिया की समस्याओं को ज्यादा तेजी से सुलझाने की क्षमता रखते हैं। एक ताजा शोध के मुताबिक जब दिमाग का ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है तो वह समस्या को सुलझाने के लिए अधिक तेजी से काम करता है।

प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज में प्रकाशित की गई इस शोध की रिपोर्ट के मुताबिक पाया गया है कि दिवास्वप्न के दौरान मानव मस्तिष्क के अंदरुनी हिस्से का डीफॉल्ट नेटवर्क ज्यादा सक्रिय हो जाता है, जो चीजों के बारे में तेजी से सोचने और समस्या के त्वरित निदान में ज्यादा सक्षम होता है।

शोध के मुताबिक लोग अपने जीवन का एक तिहाई हिस्सा दिन में ख्वाब देखते हुए बिताते हैं। यह हमारी पूरी जिंदगी का एक बड़ा हिस्सा है, लेकिन विज्ञान इसे आमतौर पर उपेक्षित कर देता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिन में सपने देखने वाले ही करते हैं बड़े काम