class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

घूमें, फिरें और मौज करें

घूमें, फिरें और मौज करें

आने वाले वर्ष में फीफा वर्ल्ड कप, कॉमनवेल्थ गेम्स और विंटर ओलंपिक गेम्स आदि कई ऐसे आयोजन हैं, जो दुनियाभर के ट्रेवल बाजार को निश्चित ही प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं। बीते वर्ष के ट्रैंड्स से लोगों का रुख भांपने की कोशिश करें तो ईको टूरिज्म  और धार्मिक पर्यटन के प्रति लोगों का रुझान बढ़ा।

युवाओं को एडवेंचर टूरिज्म ने आकर्षित किया तो रोमांटिक कपल्स ने भी परंपरागत रोमांटिक स्थलों के साथ नई जगहों को अपनी सैरगाह में शामिल करने में रुचि दिखाई। हाल में ब्रिटिश एअरवेज ने वर्ष 2010 के लिए संभावित दस हॉट डेस्टिनेशन्स की सूची जारी की है, जिसमें दिल्ली भी शामिल है। सूची के अनुसार 1.  दिल्ली (भारत), 2. केप टाउन ( दक्षिण अफ्रीका), 3. इस्तानबुल (तुर्की), 4. लॉस वेगास (अमेरिका), 5. वेंकुवर (कनाडा), 6.  पंटा काना (डोमिनिकन रिपब्लिक), 7. डब्रोवनिक (क्रोशिया), 8. न्यूयॉर्क (यूएसए), 9. स्टॉकहोम (स्वीडन), 10. मालदीव आदि जगहें इस साल पर्यटकों को खासतौर पर आकर्षक करेंगी।


घरेलू पर्यटन
यदि देश की बात करें तो यहां पर्यटन स्थलों की विविधता भिन्न-भिन्न प्रकृति के पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करने की क्षमता रखती है और एडवेंचर, कला-संस्कृति, रोमांस, धार्मिक आस्था से लेकर प्राकृतिक सौंदर्य के मुरीदों को निराश नहीं करती। इतना ही नहीं, प्राकृतिक उपचार व उच्च मेडिकल सुविधाओं ने भारत को मेडिकल हब बना दिया है। ऐसे में यदि आप वर्ष 2010 में घूमने की योजना बना रहे हैं तो इन्हें ध्यान में रखना न भूलें।

एडवेंचर
स्कीइंग के लिए ऑली उत्तराखंड में, सोलांग हिमाचल में तथा गुलमर्ग जम्मू-कश्मीर में, ट्रैकिंग के लिए चमोली और पिथौरागढ़ उत्तराखंड में, कुल्लू, डलहौजी, लाहौल स्पीति हिमाचल में, संदक्फू दार्जिलिंग में तथा मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में भी ट्रैकिंग के लिए अनेक विकल्प हैं। रिवर राफ्टिंग के लिए ऋषिकेश, लद्दाख और कुल्लू तो वॉटर स्पोर्ट्स का रोमांच गोवा, दीव, लक्षद्वीप और अंडमान आइलैंड में लिया जा सकता है। कैमल सफारी, जीप सफारी तथा डेजर्ट ट्रैकिंग के लिए राजस्थान एक आदर्श डेस्टिनेशन है।

कला-संस्कृति
भोपाल और खजुराहो (मध्य प्रदेश), अहमदाबाद और बड़ोदा (गुजरात), तिरुअनंतपुरम (केरल), अगरतला (त्रिपुरा), कोलकाता, शांतिनिकेतन (पश्चिम बंगाल), वाराणसी और लखनऊ (उत्तर प्रदेश), चेन्नई (तमिलनाडु), बस्तर एवं रायपुर (छत्तीसगढ़), जयपुर, उदयपुर तथा जैसलमेर (राजस्थान), गंगटोक (सिक्किम), भुवनेश्वर, पुरी तथा कटक (उड़ीसा), पणजी (गोवा), दमन एवं दीव जैसे डेस्टिनशन अपने फेस्टिवल्स और लोक कलाओं के लिए आकर्षित करते हैं।

खाने के शौकीन
दालबाटी चूरमा, घेवर जयपुर, मावा कचौड़ी और मिर्ची वड़ा जोधपुर (राजस्थान), ढोकला, खांडवी, पूरनपोली, फाफड़ा, (गुजरात), भेलपूरी, पावभाजी और वड़ा पाव मुम्बई (महाराष्ट्र), कबाब और बिरयानी, लखनऊ (उत्तर प्रदेश) और जम्मू-कश्मीर, बघारे बैंगन और मिर्ची का सालन रुमाली रोटी के साथ हैदराबाद (आंध प्रदेश), केरल, नई दिल्ली, बंगाली मिठाइयां और फिश की खास डिश (कोलकाता), सी फूड (गोवा), सरसों की रोटी, मक्की का साग और अमृतसरी कुलचे, अमृतसर (पंजाब), इडली, डोसा, उत्तपम और खास वेजिटेरियन चेट्टीनाद फूड (चेन्नई), सी फूड महाबलीपुरम (तमिलनाडु)। कोस्टल कुजीन मैंगलौर और कारवार (कर्नाटक), पारंपरिक केरल फूड और मालाबार कुजीन (केरल)।
प्रकृति प्रेमी ङीलों की सुंदरता उदयपुर और माउंटआबू, रेत के टीलों का सौंदर्य जैसलमेर और बाड़मेर (राजस्थान), चांदी से चमकते झरनों की खूबसूरती पचमढ़ी (मध्य प्रदेश), समुद्र तटों और मूंगे की चट्टानों का आकर्षण (लक्षद्वीप), विशाखापट्टनम के सागरतट (आंध्र प्रदेश), नैनीताल, मसूरी से हट कर हसिर्ल, औली, चौकोड़ी, कौसानी, नई टिहरी जैसे शांत हिलस्टेशन (उत्तराखंड), ऊटी और कोडाइकनाल (तमिलनाडु), सम्पूर्ण कोस्टल कर्नाटक के सुंदर बीच (कर्नाटक), मन्नार के चाय बागान और अलप्पुझा के बैकवॉटर्स (केरल), चाय बागान और हिमाच्छादित शिखरों का सौन्दर्य (दार्जिलिंग), सुंदरबन (पश्चिम बंगाल), छांगु ङील, सिक्किम, किन्नौर और लाहौल स्पीति घाटियां, हिमाचल प्रदेश, सागर तटों का विविधता भरा सौन्दर्य, गोवा ब्रrापुत्र नदी का सौन्दर्य तेजपुर, असम में तवांग का अनछुआ सौन्दर्य अरुणाचल प्रदेश।

स्पा हब
सभी बीच रेसार्ट पर गोवा में, आनंदा स्पा, नरेन्द्र नगर, ऋषिकेश, उत्तराखंड, स्पा एवं प्राकृतिक चिकित्सा के लिए कोवलम बीच, अलप्पुझा और कावेलम केरल में, राजस्थान,  तमिलनाडु, कर्नाटक, हिमाचल प्रदेश।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:घूमें, फिरें और मौज करें