class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आतंकियों ने बगदाद में ढ़ाई साल बाद छोड़ा ब्रिटिश नागरिक

इराक की राजधानी बगदाद में आतंकवादियों ने ढा़ई साल तक एक ब्रिटिश कम्प्युटर प्रोग्रामर पीटर मूरे को बंधक बनाए रखने के बाद गुरुवार को उसे मुक्त कर दिया।

इराक सरकार के प्रवक्ता अली अल दब्बाग ने कहा कि वह जीवित है और उसका स्वास्थ्य अच्छा है। मूरे को पहले इराक सरकार को सौंपा गया और बाद में उनको ब्रिटिश दूतावास को सौंप दिया गया।

ग्यातव्य है कि बगदाद में अनुबंध पर काम करने वाले मूरे को 2007 में वित्त मंत्रालय से उनके चार अंगरक्षकों समेत अगवा कर लिया गया था।

मूरे के तीन अंगरक्षकों के शवों को ब्रिटिश अधिकारियों को सौंप दिया गया है। चौथे अंगरक्षक एलन मैकमेनेमी के बारे में कुछ पुष्टि नहीं हुई है जबकि ब्रिटिश अधिकारियों का मानना है कि वह मर चुका है।

ब्रिटेन के विदेश मंत्री डेविड मिलबैंड ने अपहरणकर्ताओं से कहा है कि जितनी जल्दी हो सके वह एलन के शव को सौंप दें। गौरतलब है कि 1980 में लेबनान में कुछ ब्रिटेन के नागिरकों को बंधक बनाया गया था उसके बाद से यह सबसे ज्यादा दिनों तक किसी ब्रिटिश नागरिक को बंधक बनाए रखने की घटनाओं में से एक है।

मूरे की सौतेली मां पाउलीन स्वीनी ने बीबीसी से कहा कि मूरे ने मुझसे बताया कि वह नहीं जानता कि अपहरणकर्ताओं ने उसे क्यों छोड़ दिया। उसने कहा कि जब वे लोग सुबह में मुझे लाए तो मैंने सोचा कि अब वे मुझे भी मारने के लिए ले जा रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आतंकियों ने बगदाद में ढ़ाई साल बाद छोड़ा ब्रिटिश नागरिक