class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

70 हजार के नकली नोट संग दो गिरफ्तार

आशापुर रेलवे क्रासिंग के पास बुधवार दोपहर एंटी टेररिस्ट स्क्वाएड (एटीएस) और सारनाथ पुलिस ने छापामारी के दौरान नकली नोट लेकर आ रहे दो युवकों को गिरफ्तार किया। तलाशी में दोनों के पास से पांच-पांच सौ रुपये के 140 नकली नोट और 11 किलो गांजा बरामद हुआ।

दोनों युवकों ने कबूल किया कि बरामद नोट वीरगंज (नेपाल) से लेकर आ रहे हैं। पाकिस्तान में छपे गए इन नोटों को नेपाल के जरिए भारत में भेजा जाता है। पहले भी वे नकली नोट लेकर आ चुके हैं। उनसे मिली जानकारी के आधार पर पुलिस नकली नोट के कारोबार से जुड़े कुछ और लोगों की तलाश कर रही है।

एटीएस को सूचना मिली थी नेपाल से नकली नोट लेकर कुछ लोग आशापुर आने वाले हैं। इस पर एसओ सारनाथ शिवशंकर सिंह के साथ घेराबंदी की गई। पुलिस को देख दो संदिग्ध युवक भागे जिन्हें पीछाकर पकड़ लिया गया। तलाशी में नकली नोट व गांजा मिलने पर कड़ाई से पूछताछ की गई। गिरफ्तार प्रमोद सिंह उर्फ विनोद खतगोरू (फतेहपुर) थाना क्षेत्र के अदमऊ गांव का निवासी है जबकि रमाशंकर खागा (फतेहपुर) के एलई गांव का रहने वाला है।

विनोद पहले लुधियाना में सिलाई फैक्ट्री में काम करता था जहां उसका परिचय बेतिया (बिहार) सुखड़ी से हुआ। सुखड़ी ने उसे नेपाल से नकली नोट की तस्करी के धंधे की जानकारी दी। दोनों वीरगंज से कई बार नोट ला चुके हैं। नोट हू-ब-हू असली हरी पट्टी वाले की तरह होते हैं। इन्हें आसानी से नहीं पकड़ा जा सकता है। नेपाल में उन्हें बताया गया कि नोट सरकारी छापखाने में छपे हैं।

देहात में तो पांच सौ का नया नोट मिलते ही लोग आराम से रख लेते हैं जहां वह अधिक नोट खपाते हैं। जाली नोटों के कारोबार पर पहले से एटीएस की नजर थी। इस साल की यह चौथी बरामदगी है। पहले एक लाख पर तीन लाख रुपए मिलते थे लेकिन अब एक लाख के दो लाख मिलते हैं।

अब तक पकड़े गए मामले

जनवरी 09: बलिया में 1.05 लाख रुपए के साथ शहजाद गिरफ्तार ।
सितम्बर 09: 1.52 लाख रुपए, जमानिया के जियाउद्दीन एवं सत्यनारायण बिंद पकड़े गए।
अक्टूबर 09: 52 हजार रुपए के साथ लंका में दिनेश राजभर धराया।
वर्ष 07 : सारनाथ में ढाई लाख रुपए के नकली नोट के साथ एसटीएफ ने दो व्यक्तियों को दबोचा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:70 हजार के नकली नोट संग दो गिरफ्तार