class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली में ठंड का कहर जारी, उड़ानें प्रभावित

दिल्ली में ठंड का कहर जारी, उड़ानें प्रभावित

दिल्ली में शीत लहर जारी है और सप्ताह में बुधवार को दूसरी बार पारा लुढ़क कर 5.2 डिग्री सेल्सियस पर आ गया। घने कोहरे के कारण राजधानी से कई उड़ानें भी प्रभावित हुईं।


दिल्ली में बुधवार की सुबह तापमान 5.2 डिग्री सेल्सियस रहा जो कि सामान्य से दो डिग्री सेल्सियस कम है। मंगलवार को राजधानी में न्यूनतम तापमान 6.2 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम तापमान 21 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। दिल्ली में शनिवार को भी पारा 5.2 डिग्री सेल्सियस पर था।

मौसम विभाग ने बताया कि जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में हिमपात होने से दिल्ली के तापमान में गिरावट आई है। उत्तर भारत में ज्यादातर स्थानों में लोगों ने शीत लहर चलने के चलते घरों में ही रहना पसंद किया। दिल्ली में सुबह आकाश में कुहासे की पतली चादर छाई रही, जिसके चलते दृश्यता सीमा घट कर 500 मीटर पर आ गई।

मौसम विभाग ने धुंध के साथ अधिकतम तापमान 21 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस के आस-पास रहने की भविष्यवाणी की है।

इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के इर्द गिर्द घना कोहरा छाए रहने के कारण आधे दर्जन से भी घरेलू उड़ानों में विलंब हुआ। हवाई अड्डा सूत्रों ने कहा कि अमृतसर, मुंबई, लेह, चंडीगढ़, पुणे और पटना की ओर जाने वाली सुबह की सात उड़ानों में एक घंटे की विलंब हुआ है, क्योंकि हवाई पट्टी पर दृश्यता सीमा घटकर केवल 100 मीटर रह गई है।

आईजीआई हवाई अड्डे के मौसम विभाग निदेशक आरके जेनामनी ने कहा कि सुबह आठ बजे के आस-पास हवाई पट्टी पर दृश्यता 200 से साढ़े तीन सौ मीटर थी, जिससे विमानों की लैंडिंग के लिए कैट-तीन व्यवस्था का उपयोग करना पड़ा। हवाई अड्डे पर सामान्य दृश्यता डेढ़ सौ मीटर तक दर्ज की गई, जबकि मुख्य हवाई पट्टी पर दृश्यता घटकर 600 मीटर रह गई।

पटना, अमृतसर और उत्तर भारत के अन्य शहरों में दृश्यता की स्थितियां अच्छी नहीं है, जिसके कारण नई उड़ानों के समय में परिवर्तन किया गया है। पिछले वर्ष की तरह घने कोहरे के कारण इस बार उड़ानों में कोई बड़ी मुश्किल नहीं आई है या उड़ान मार्गों में परिवर्तन नहीं करना पड़ा है।

पिछले वर्ष इस मौसम में दिल्ली हवाई अड्डे पर दो कैट-तीन बी हवाई पटि्टयां होने के बावजूद एक हजार से अधिक उड़ानों में विलंब हुआ था। कोहरे के कारण उड़ानों में विलंब और रद्द को रोकने के लिए नागर विमानन मंत्रालय और डीजीसीए ने एयरलाइंस कंपनियों को कैट-तीन बी से लैस विमानों को तैनात करने और कैट-तीन बी में दक्ष पायलटों को ड्यूटी पर तैनात करने को कहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल्ली में ठंड का कहर जारी, उड़ानें प्रभावित