class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रुक-रुककर होती रही फायरिंग व पथराव

ताजियों के विवाद में सोमवार को हुआ बवाल दूसरे दिन भी जारी रहा। मंगलवार सुबह से ही रुक-रुककर पथराव और फायरिंग होती रही। बवालियों को शांत करने में नाकाम पुलिस ने बाद में घरों में घुस-घुसकर लोगों को पीटा। करीब 52 उपद्रवियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पूरे तीन घंटे तक मोहल्ला व्यापारियान में पुलिस और पीएसी जवानों ने मिलकर तलाशी अभियान चलाया। इस दौरान पूरा इलाका छावनी बना रहा। पथराव और फायरिंग में कई पुलिसकर्मियों समेत करीब दो दजर्न लोग घायल हुए हैं। 


सोमवार को मोहर्रम पर ताजियों के जुलूस के दौरान मुस्लिम समुदाय के दो पक्ष भिड़ गए थे। दोनों पक्षों में पथराव और गोलियां चलीं। देखते ही देखते पूरे कस्बे में अराजकता फैल गई। कई थानों की फोर्स इलाके में तैनात कर दी गई। मंगलवार की शांत सुबह एक बार फिर सुलग उठी। सुबह करीब छह बजे फिर से दोनों पक्षों में कहासुनी हुई और उपद्रव शुरू हो गया। जब तक पुलिस सतर्क हो पाती, पथराव और फायरिंग शुरू हो चुकी थी। स्थिति पर काबू पाने के लिए सीओ सादाबाद शशि शेखर दीक्षित और एसडीएम कपिल सिंह के साथ पुलिस और पीएसी ने घरों में घुस-घुसकर उपद्रवियों को पकड़ा। दरवाजा न खोलने पर उसे तोड़ दिया। भागने की कोशिश करने वालों को दौड़ाकर पीटा। इसके बाद माहौल शांत हो गया। दोपहर करीब ढाई बजे फिर से पथराव और फायरिंग शुरू हो गई। पुलिस ने फिर कॉम्बिंग कर उपद्रवियों को दबोचा। समाचार लिखे जाने तक कुल 52 उपद्रवियों को गिरफ्तार कर पुलिस ने अदालत के आदेश पर जेल भेज दिया। इनमें से 40 एक पक्ष के और 12 दूसरे पक्ष के हैं। इलाके में तनाव बरकरार है। दहशत के कारण लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं। डीएम और एसपी ने दोनों पक्षों के लोगों में शांति वार्ता करायी लेकिन वह भी बेनतीजा रही। देर रात तक सादाबाद में पुलिस कॉम्बिंग करती रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रुक-रुककर होती रही फायरिंग व पथराव