DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तू नहीं और सही

ठिठुरती ठंड में मौलाना एक थैली में अंडे लेकर चले आ रहे थे। आते ही गमगीन स्वर में बोले- ‘अंडों को देखता हूं तो बन्ने मामू की याद आ जावे है। अंडों का कारोबार था। घाटा हुआ। या तो मुर्गियों ने यूनियन बना कर अंडे छोटे देने शुरू कर दिए या छिल्कों में रेत की मिलावट। अंडे टूटने लगे। मामू ने गाजर के हलवे का धंधा शुरू किया। गाजर का सीजन खत्म होते ही स्टेशनरी की दुकान चालू। सो आन सो फोर्थ। तू नहीं और सही और नहीं और सही। जब करने को कुछ न बचा तो एक दिन हुक्का पीते-पीते ही दुनिया को गुड बाई कह गए। अलग-अलग धंधों के साइन बोर्ड जायदाद के तौर पर छोड़ गए।’ मैंने पूछा- ‘मौलाना! आज बात की लाइन किधर जा रही है?’
    
मौलाना ने एक पान को मुंह के दफ्तर में एंट्री दी और बोले- ‘कभी न्यूजें दीदे खोल कर पढ़ लिया करो। बस यही नहीं कि सहवाग ने कितने रन बनाए और धोनी ने कितने छक्के तोड़े। खबरें गर्म होकर उबल रही हैं कि पाकिस्तानी राष्ट्रपति जरदारी मियां प्रेसीडेंटी छोड़ कर प्रधानमंत्री बनने को नाड़ा कस रहे हैं। खुदा खैर करे। इसकी कई वजहें हो सकती हैं। भगोड़े (पूर्व) राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के साए और करतूतों से डरे सहमे हैं। या अखबारी खबरों के मुताबिक करोड़ों डॉलरों की घालमेल का खौफ हैगा। खबरानुसार फौजों में भी जरदारी मियां के खिलाफ बथुए का साग पक रहा है। जरदारी का धीरे-धीरे अमेरिका की जानिब सरकते रहना फौजों को फूटी आंख नहीं सुहा रहा है। प्रेसीडेंटी के खिलाफ कभी भी बिगुल बज सकता है। आप जानो भाई मियां, बिन मिलेट्री का पाकिस्तान और बिन तंबाकू का पान, चे मानी दारद (क्या अर्थ रखता है?)।’
    
मौलाना ने एक लौंग मुंह में फेंकी और बोले- ‘अब अगर खुदानखास्ता प्राइम मिनिस्ट्री में भी शलजम न गली तो किस हांडी में जाएंगे या किस मुल्क में पनाह लेंगे? बस इसी पर मुझे बन्ने मामू की याद आ गई। वैसे मियां, उस मुल्क में प्रेसीडेंटी हो या प्राइम मिनिस्ट्री, सूखे कुएं में कछुए पालने जैसा है। मुल्क के हालात काफी ऐन गैन हो चुके हैं। यो जलवा दोनों पोस्टों में है। बकौल लखनवी कवि स्व. भुशुंड जी-  भले रहे हर हाल में मृगनयनी के होंठ..हरे रहे अदरक रहे, सूख गए तो सोंठ।’
    
मौलाना ने मुंह में पीक कुलबुलाते हुए कहा- ‘मैं जा कर आमलेट और गर्म चाय बनवाता हूं। आप फौरन शाल डाल कर लपक आओ। दिसम्बर आखिर की इस ठंड में आदमी ऐंठ कर अंग्रेजी का आठ हुआ जा रहा है।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तू नहीं और सही