DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विधायक का अंगरक्षक निकला हथियारों का सौदागर

सोमवार को गया जंक्शन के पास एसटीएफ द्वारा गिरफ्तार किया गया हथियारों का सौदागर राजेश कुमार सिंह पुलिसकर्मी निकला। चौंकाने वाली बात तो यह है कि वर्तमान में वह पटना मध्य के भाजपा विधायक अरुण कुमार सिन्हा के अंगरक्षक में प्रतिनियुक्त था।

पटना पुलिस का यह जवान पिछले तीन वर्षों से विधायक के साथ उनकी परछाई बनकर रह रहा था। 1999 में पटना पुलिस में बहाल इस जवान की करतूतों का जब मंगलवार को खुलासा हुआ तो अपने अंगरक्षक की वास्तविकता जानकर विधायक भी हतप्रभ हो गए।

मंगलवार को विधायक ने ‘हिन्दुस्तान’ को बताया कि राजेश चूंकि सरकारी बॉडीगार्ड था इसलिए वह उसकी व्यक्तिगत जिंदगी पर ध्यान नहीं देते थे। वह देखने में इतना भोला था कि कोई सोच भी नहीं सकता कि इस भोले चेहरे के पीछे कोई शातिराना चेहरा भी है।

बताया जाता है कि गया के गुरूआ थाना के बेलवत्ती गांव का निवासी राजेश हर एक सप्ताह के बाद कभी मां तो कभी बहन की बीमारी का बहाना कर विधायक से दो तीन दिनों की छुट्टी लेकर चला जाता था।

इस घटना के बाद यह आशंका बलवती हो गई है कि छुट्टियां वह अवैध हथियारों की खरीद फरोख्त के सिलसिले में ही लेता था। इसकी भनक भी कभी अरुण कुमार सिन्हा को नहीं लगी। बताया जाता है कि राजेश ने शनिवार को भी बहाना बनाकर ही विधायक से छुट्टी ली थी।

गौरतलब है कि पटना से गये एसटीएफ के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने सोमवार की रात तीन हथियारों के सौदागरों राजेश, उसके एक ग्रामीण कुमार राजेश और अन्तु मिस्त्री को गया जंक्शन पर दबोच लिया था। इनके पास से सात 9 एमएम पिस्टल और 40 कारतूस बरामद किए गए थे। बरामद सभी पिस्टल विदेश निर्मित हैं।

इधर पटना पुलिस के जवान की इस आपराधिक कारगुजारी से पटना पुलिस के वरीय अधिकारी भी अवाक हैं। एसएसपी विनीत विनायक ने एसटीएफ और गया रेल पुलिस थाना से रिपोर्ट मांगी है। एसएसपी ने बताया कि अखबारों के माध्यम से ही उन्हें इस मामले की जानकारी मिली है।

रिपोर्ट आते ही उस जवान को निलंबित कर उस पर विभागीय कार्रवाई शुरू की जाएगी। खाकी की आड़ में खोखे का कारोबार करने वाला राजेश पुलिस की सेवा से बर्खास्त भी किया जा सकता है।

 

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विधायक का अंगरक्षक निकला हथियारों का सौदागर