class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्टेट बैंक की एक लाख शाखाएं खोलना चाहते हैं: भट्ट

देश में सबसे बड़े राष्ट्रीयकृत बैंक भारतीय स्टेट बैंक के अध्यक्ष ओ पी भट्ट ने अब भी बड़े पैमाने पर लोगों के बैंकिग सुविधाओं से महरूम होने पर चिंता जताते हुए कहा है कि उनके बैंक की शाखाओं की संख्या मौजूदा लगभग साढ़े सोलह हजार से बढ़कर एक लाख तक करने की उनकी इच्छा है।

भट्ट ने स्टेट बैंक के पटना सर्किल के बेहतर प्रदर्शनकर्ता कर्मियों को पुरस्कृत करने के बाद अपने संबोधन में कहा कि एक अरब से अधिक आबादी वाले इस देश के कई हिस्से अब भी बैंकिंग सुविधाओं से महरूम हैं। दुनिया की दूसरी सबसे तेजी से बढ़ रही अर्थव्यवस्था बन गए भारत की बढ़ती जरूरतों के लिए भी बैंकिंग सुविधाओं के विस्तार की जरूरत है। हर साल बड़ी संख्या में बैंक और एटीएम खोले जा रहे हैं फिर भी इन पर दबाव कम नहीं हो रहा। यह बात स्टेट बैंक के तेजी से विस्तार करने की नीति को उचित साबित करता है। वह चाहते हैं कि उनकी एक लाख शाखाएं हों। एक जिम्मेदार सरकारी बैंक के रूप में हमारा लक्ष्य केवल मुनाफा नहीं बल्कि जनता की सेवा करना है।

अभी स्टेट बैंक के साढ़े 14 करोड़ ग्राहक हैं, जो एक दृष्टि से दुनिया के सातवे सबसे बड़े देश की आबादी के बराबर है पर अब भी बड़ी संख्या में लोग बैंकिंग सुविधाओं से वंचित हैं। उन्होंने अपने कर्मियों को ग्राहकों को सेवा भावना के साथ बेहतर सुविधाएं देने की सीख देते हुए कहा कि संख्या बढ़ाने के साथ ही गुणवत्ता का बेहतर होना भी जरूरी है। इससे पूर्व उन्होंने बिहार और झारखंड को मिला कर बने पटना सर्किल में स्टेट बैंक के पहले एटीएम बैंक और एक हजारवें एटीएम का भी उद्घाटन किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्टेट बैंक की एक लाख शाखाएं खोलना चाहते हैं: भट्ट