DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आसमान पर निगाह रखने वालों के लिए 31 दिसंबर खास

आसमान पर निगाह रखने वालों के लिए 31 दिसंबर खास

खगोलीय घटनाओं के दीदार के शौकीन लोगों के लिए 31 दिसंबर की रात बेहद खास होगी। उस रात चांद ज्यादा बड़ा और हल्का नीला नजर आएगा।

आमतौर पर एक साल में 12 बार पूर्ण चंद्रमा के दर्शन होते हैं लेकिन हर दो या तीन साल के अंतराल पर चांद का आकार कुछ बढ़ा हुआ और उसका रंग कुछ नीला नजर आता है। इसे नीला चांद कहा जाता है।

साइंस पॉपुलराइजेशन एसोसिएशन ऑफ कम्युनिकेटर्स ऐण्ड एजूकेटर्स (स्पेस) के अध्यक्ष सीबी देवगन ने कहा कि पिछली दो दिसंबर को हम पूरा चांद पहले ही देख चुके हैं। हम चांद का यह बढ़ा हुआ रूप नववर्ष की पूर्वसंध्या यानि 31 दिसंबर को देखेंगे। बहुत कम मौकों पर ही चांद हल्का नीला नजर आता है। ऐसा अक्सर बड़े पैमाने पर आग लगने से उठे धुंए या वातावरण में धूलकणों की मात्रा ज्यादा होने के कारण होता है।

नीले चांद की अवधारणा को स्पष्ट करते हुए देवगन ने बताया कि चांद को एक चक्र पूरा करने में 29.53 दिन लगते हैं, जो करीब एक महीने के बराबर है। यही वजह है कि महीने में एक बार पूरा चांद दिखाई पड़ता है।

देवगन ने कहा कि चूंकि चंद्र चक्र पूरे 30 दिन में पूर्ण नहीं होता है, लिहाजा हर महीने पूरा चांद करीब आधा दिन पहले ही निकल आता है। यह छोटा सा अंतर पूरा चांद होने की तिथि को तब तक आगे बढ़ाता जाता है, जब तक एक महीने में दो पूर्ण चंद्र दर्शन नहीं हो जाते। जब ऐसा होता है तो महीने का दूसरा पूरा चांद नीला चांद कहलाता है। उन्होंने बताया कि ऐसा करीब तीन साल के बाद होता है। मिसाल के तौर पर यह 19 वर्षों के दौरान सिर्फ सात बार यानी हर 2.7 साल के बाद होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आसमान पर निगाह रखने वालों के लिए 31 दिसंबर खास