class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रुचिका के स्कूल के खिलाफ जांच के आदेश

बहुचर्चित रुचिका गिरहोत्रा मामले में चंडीगढ़ प्रशासन ने अब उस स्कूल के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं, जिसने सितम्बर 1990 में रुचिका को स्कूल से निकाल दिया था। चंडीगढ़ प्रशासन ने सेक्रेड हार्ट स्कूल के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं। स्कूल ने बिना किसी कारण के वर्ष 1990 में रुचिका को स्कूल से निकाल दिया था।

गौरतलब है कि 12 अगस्त 1990 को हरियाणा के पुलिस महानिदेशक एस.पी.एस.राठौर ने 14 वर्षीया रुचिका के साथ र्दुव्‍यवहार किया था और इसके तीन साल बाद रुचिका ने आत्महत्या कर ली थी। चंडीगढ़ के गृह सचिव रामनिवास ने कहा कि रुचिका को विद्यालय से निकाले जाने के फैसले में विद्यालय प्रबंधन की भूमिका की जांच की जाएगी। रामनिवास शिक्षा सचिव भी है।

रामनिवास ने कहा, ''मुझे कल मधु प्रकाश का फैक्स सदेश मिला था। वह इस मामले की जांच की मांग कर रही थी। मैंने उप मंडलीय दंडाधिकारी को मामले की जांच करने का आदेश दिया है और कहा कि सात दिनों के अंदर रिपोर्ट पेश करे।''

इस पूरे मामले में विद्यालय प्रबंधन ने चुप्पी साध ली है। विद्यालय ने शुरुआत में यह कहकर रुचिका को निकाल दिया था कि उसने फीस समय पर जमा नहीं की। रुचिका पर अनुशासनहीनता का भी आरोप लगाया गया था। वरिष्ठ वकील और मानवाधिकार मामलों के कार्यकर्ता रंजन लखनपाल इस मामले में पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय में एक जनहित याचिका दायर करेंगे। उल्लेखनीय है कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने गत सोमवार को रुचिका मामले में राठौर को छह महीने की सजा सुनाई थी लेकिन 10 मिनट के भीतर ही उसे जमानत पर रिहा कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रुचिका के स्कूल के खिलाफ जांच के आदेश