class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीसीटीवी कैमरे से हुई आरोपी ड्राइवर की पहचान

पुलिस ने व्यापारी सुशील गुप्ता हत्याकांड में आरोपी थ्री-व्हीलर ड्राइवर की पहचान सीसीटीवी कैमरे से कर ली है। आरोपी को काबू करने के लिए पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है।

कैमरे उस कंपनी में लगे हुए हैं, जहां रविवार सुबह वह थ्री-व्हीलर ड्राइवर सिलेंडरों की फीलिंग कराने गया था। ड्राइवर को व्यापारी ने एक सप्ताह पहले ही नौकरी पर रखा था।

नेशनल गैस कारपोरेशन के मालिक सुशील गुप्ता ने एक सप्ताह पहले ही बिहार के अरूण नामक व्यक्ति को अपने थ्री-व्हीलर पर बतौर ड्राइवर पर रखा था। शनिवार रात उन्होंने उससे सिलेंडरों की फीलिंग करने के लिए कहा था।

रविवार सुबह सात बजे वह थ्री-व्हीलर में सिलेंडर भरके सेक्टर-58 की के.के.गैस में उनको फिलिंग कराने पहुंच गया। जहां लगे सीसीटीवी कैमरे में उसकी तस्वीर व तमाम गतिविधि कैद हो गई। कैमरे में कैद हुई तस्वीर से उसकी पहचान व रिसीविंग के लिए करे हस्ताक्षर से हुए उसके नाम की पहचान आसानी से हो गई।

जांच पड़ताल में पता चला कि वह ड्राइवर का नाम अरूण है। यह भी पता चला है कि वह बिहार का रहने वाला है। थाना प्रभारी रॉव धनसिंह ने बताया कि आरोपी की तलाश जारी है। उसे काबू करने के लिए लगातार अन्य थ्री-व्हीलर ड्राइवरों से पूछताछ शुरू कर दी है।

इधर, व्यापारी के दामाद पवन गुप्ता ने बताया कि उनके ससुर की दुकान पर केवल एक मात्र ड्राइवर ही नौकर था। पिछले 22 सालों से काम के दौरान उन्होंने केवल ड्राइवर को ही हमेशा नौकर के रूप में रखा है। इसलिए उन्हें यकीन है कि उनकी हत्या अवश्य ही ड्राइवर ने की है। उन्होंने बताया कि मृतक व्यापारी के एक बेटा रोहित गुप्ता है जो इन दिनों विप्रो कंपनी चेन्नई में कार्यरत है।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीसीटीवी कैमरे से हुई आरोपी ड्राइवर की पहचान