class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चिकित्सा के लिए मोबाइल वैन

राजधानी में ऐसी जगहों पर मोबाइल वैन लगाई जाएंगी, जहां अस्पताल या डिस्पेंसरी की सुविधाएं नहीं हैं। शुरू में इसके लिए दस मोबाइल वैन लगाई जाएंगी जो दो-दो घंटे एक इलाके में काम करेंगी। यानी दस वैन 40-50 जगहों पर लगाई जा सकेंगी।

कॉमनवेल्थ गेम्स नजदीक हैं और राजधानी के लोगों को जरुरत के लिहाज से चिकित्सा सेवाएं नहीं मिल पा रही हैं। एमसीडी इन सुविधाओं को देने के लिए लगातार प्रयास करती रही है। स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष डा.संजीव नैय्यर ने बताया कि एमसीडी फिलहाल दस मोबाइल वैन विभिन्न जगहों पर लगाने जा रही हैं जहां लोगों को चिकित्सा सुविधा उनके घर के पास नहीं मिल पा रही है।

छोटी-छोटी कालोनियों के लोगों को भी इससे चिकित्सा सुविधा मिल सकेगी। एक जगह वैन दो-तीन घंटे खड़ी रहेगी। इससे इन्हें 40 से 50 जगहों तक लगाया जा सकेगा। एक वैन में डिस्पैंसरी से मिलने वाली सारी सुविधा होगी और एक वैन पर करीब 14 लाख रुपये खर्चा आएगा। आगे अगर जरूरत हुई तो वैन की संख्या बढ़ाई भी जा सकती है।

प्रशासनिक मंजूरी मिलने के बाद इस योजना को लागू कर दिया जाएगा ताकि गरीब व मध्यम वर्ग के लोगों को घर के पास चिकित्सा सुविधा मिल सके। गौरतलब है कि मौजूदा समय में निगम के छह बड़े अस्पताल हैं और 34 प्रसूति व 155 प्रसूति व शिशु कल्याण केंद्र हैं। स्वास्थ्य केंद्र व पंचकर्मा अस्पताल के अलावा यूनानी, होम्योपैथिक डिस्पेंसरियां तथा चेस्ट क्लीनिक भी हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चिकित्सा के लिए मोबाइल वैन