class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड पर रूडी के बयान से भाजपा में बवाल

झारखंड पर रूडी के बयान से भाजपा में बवाल

झारखंड में शिबू सोरेन के नेतृत्व वाले क्षामुमो से मिल कर सरकार बनाने की बजाय विपक्ष में बैठने के बयान पर सफाई देते हुए भाजपा के प्रवक्ता राजीव प्रताप रूडी ने सोमवार को कहा कि यह उनका व्यक्तिगत विचार था और अब इस मुद्दे पर वह पूरी तरह से पार्टी के निर्णय के साथ हैं।

रूडी ने कहा कि उन्होंने कोलकाता में जब यह बयान दिया था, उस समय दिल्ली में भाजपा संसदीय बोर्ड झारखंड के खंडित जनादेश के संबंध में तीन विकल्पों पर विचार कर रहा था, जिसमें विपक्ष में बैठना शामिल था। अन्य विकल्प थे सरकार को बाहर से समर्थन देना या सरकार में शामिल होना।

उन्होंने अपने विवादास्पद बयान के संदर्भ में स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि उस समय तक पार्टी किसी निर्णय पर नहीं पहुंची थी।

उन्होंने कहा कि इन तीनों में से एक विकल्प चुनने का कार्य झारखंड का दौरा कर रहे पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्व और राज्य नेतृत्व पर छोड़ दिया गया था।

अपने स्पष्टीकरण में उन्होंने कहा कि जमीनी वास्तविकता का जायजा लेने पर यह निर्णय किया गया कि झामुमो और आजसू से मिलकर सरकार बनाई जाए।

रूडी ने 26 दिसंबर को कोलकाता में आयोजित अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सम्मेलन में झारखंड पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा था कि स्पष्ट जनादेश के अभाव में भाजपा को विपक्ष में बैठना चाहिए। उन्होंने कहा कि उनके ऐसा कहने तक भाजपा ने झारखंड पर कोई फैसला नहीं किया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:झारखंड पर रूडी के विरोधी बयान से सकते में भाजपा