class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रकृति के दोस्त

दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है। इस पुरानी कहावत का इस्तेमाल वैज्ञानिक डेंगू के मच्छर से लड़ने में करना चाहते हैं। आस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों ने एक बैक्टीरिया ‘वोल्बेशिया’ ढूंढ़ निकाला है, जो अगर डेंगू के मच्छर को संक्रमित कर दे तो मच्छर की उम्र आधी रह जाती है और उसमें डेंगू, चिकनगुनिया वगैरा फैलाने वाले सूक्ष्मजीवी भी नहीं रह पाते। वैज्ञानिकों का विचार है कि अगर मच्छरों में वोल्बेशिया बड़े पैमाने पर फैल जाए तो डेंगू पर नियंत्रण संभव है। वोल्बेशिया कीड़ों में ही पनपने वाला बैक्टीरिया है। ऐसा नहीं है कि मनुष्य पहली बार किसी बीमारी से लड़ने के लिए प्रकृति में उसका दुश्मन ढूंढ़ रहा हो। प्रकृति में हर जीव के विकास और विनाश के प्राकृतिक साधन उपलब्ध हैं जिनसे प्राकृतिक संतुलन बना रहता है, जब यह संतुलन बिगड़ता है तभी अक्सर गड़बड़ियां पैदा होती हैं। मच्छरों पर नियंत्रण के लिए कीटनाशकों का इस्तेमाल एक हद तक ही कारगर है और उसके दुष्परिणाम ज्यादा हैं। मेंढक और कुछ तरह की मछलियां मच्छरों या उनके अंडे, लार्वा वगैरा को खाती हैं और इसलिए मच्छरों को कम करने में उनकी भूमिका होती है, लेकिन आदमी मेंढकों और मछलियों को ही जिंदा नहीं रहने देता इसलिए मच्छरों की तादाद बेतहाशा बढ़ रही है और मच्छरों से फैलने वाली बीमारियां
भी दोगुने जोर से लौट आई हैं। अब काफी वैज्ञानिक मानने लगे हैं कि सिर्फ रसायनों के दम पर बीमारियों से लड़ना नामुमकिन है, इसलिए प्राकृतिक प्रक्रियाओं का अध्ययन करके हानिरहित इलाज ढूंढ़े जाने चाहिए। लंबे वक्त तक यह माना जाता था कि सूक्ष्मजीवी हानिकारक ही होते हैं इसलिए उन्हें मार देना ही स्वस्थ रहने के लिए जरूरी है, लेकिन जैसे-जैसे चिकित्सा विज्ञान तरक्की कर रहा है यह रवैया बदल रहा है। हमारे शरीर में ही हमारी अपनी कोशिकाओं से ज्यादा सूक्ष्मजीवी होते हैं यानी जिसे हम ‘मेरा शरीर’ कहते हैं वह ज्यादा बड़ी हद तक सूक्ष्मजीवियों की एक बस्ती है और वे सूक्ष्मजीवी हमारे शरीर के कई सारे जरूरी काम करते हैं। आजकल ‘प्रोबायोटिक्स’ का बड़ा शोर है, प्रोबायोटिक दरअसल फायदेमंद बैक्टीरिया है जो हमारे शरीर में जाकर पाचन तंत्र ठीक करते हैं, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं, कई बीमारियों से लड़ने में हमारी मदद करते हैं। ऐसे कई बैक्टेरिया होंगे जो खतरनाक परजीवियों पर नियंत्रण रखने होंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रकृति के दोस्त