अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हिंदू संगठनों ने रैली निकाली, मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन

स्वामी श्रद्धानंद के बलिदान दिवस पर धर्मातरण विरोधी संकल्प सप्ताह के अन्तर्गत आयोजित किए जा रहे कार्यक्रमों के तहत रविवार को हिन्दुवादी संगठनों ने स्कूटर और मोटर साइकिल रैली निकाली। रैली पुल जटवाड़ा से शुरू होकर नगर के मुख्य मार्गो से होती हुई वाल्मीकि चौक पहुंची। रैली में कार्यकर्ता धर्मातरण बंद करने को कानून लागू करने और धर्मातरण कराने वालों को देश से बाहर निकालने के नारे लगा रहे थे। प्रदेश के मुख्यमंत्री को प्रेषित ज्ञापन में शीघ्र ही धर्मातरण विरोधी कानून बनाने की मांग की गई।


वाल्मीकि चौक ललतारौ पुल पर हुई सभा में विहिप के प्रांत संगठन मंत्री प्रमोद ने कहा कि धर्म की रक्षा के लिए ही स्वामी श्रद्धानंद ने बलिदान दिया था। हमें धर्मातरण रोकने का संकल्प लेना होगा। इसाई मिशनरियां देश के गरीब और लाचार लोगों को प्रलोभन देकर उनका धर्मातरण करा रही हैं। मुस्लिम युवा धोखा देकर अपने प्रेमजाल में फंसाकर हिन्दु युवतियों का अपहरण कर रहे हैं। हिन्दु संगठनों को एकजुट होकर प्रतिकार करना होगा।
कार्यकर्ताओं ने जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा, जिसमें कहा गया है कि ईसाई मिशनरियों के कुकृत्यों की जांच के लिए न्यायिक आयोग का गठन किया जाए। ईसाई मिशनरियों को विदेशी स्नोतों से मिलने वाले धन की जांच कराई जाए। सेवा कार्य की आड़ में चलाई जा रही गतिविधियों पर तत्काल रोक लगाई जाए। अपने धर्म का प्रचार करने के लिए वैधानिक अधिकार केवल भारतीयों को मिले।


राज्य को आतंकवादी गतिविधियों से सुरक्षित रखने के लिए बंगलादेशी और पाक नागरिकों की पहचान करके देश की सीमाओं से बाहर किया जाए। भारत सरकार से सहायता लेने वाले स्वयं सेवी संगठनों की जांच कराई जाए। ज्ञापन देने वालों में वीरेंद्र कीíतपाल, सुरेंद्र सैनी, राजवीर सिंह पाल, अनुज वालिया, अश्वनी शर्मा, विनोद उपाध्याय गुलशन, अमित शर्मा, विनित यादव, प्रदीप नारायण, अजय वाल्मीकि, मुकेश चौधरी, प्रदीप कुमार उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हिंदू संगठनों ने रैली निकाली, मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन