अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बारूद के ढेर पर रहा बिहार

बिहार में नक्सल आंदोलन मर्ज बढ़ता गया, ज्यों-ज्यों दवा की, की तर्ज पर लगातार अपने पैर पसार रहा है। हालत यह है कि बिहार सरकार इससे निपटने के लिए अपने अभियान जितने तेज करती है, नक्सल आंदोलन भी उतनी ही तेजी से बढ़ता जा रहा है।

बीते बरस बिहार में नक्सलियों से मिले बारूद के जखीरों से इसका अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है। बिहार के कुल 38 में से 15 जिले उग्रवाद से पूरी तरह प्रभावित हैं जबकि 32 जिले ऐसे हैं, जहां पिछले तीन वर्षों के दौरान कोई न कोई नक्सली वारदात जरूर हुई हैं।

इन जिलों में से छह जिले झारखंड से सटे हुए हैं जबकि छह अन्य जिले उत्तर प्रदेश की सीमा पर हैं। प्रदेश में नक्सलियों से मिले खतरनाक हथियार और आधुनिकतम साजो सामान उनके खतरनाक इरादों को जाहिर करने के लिए काफी हैं। पुलिस महानिरीक्षक [अभियान] के एस द्विवेदी ने बताया कि बिहार पुलिस द्वारा वर्ष 2009 के दिसबंर महीने के मध्य तक नक्सलियों के खिलाफ की गयी विभिन्न कार्रवाई में कुल 384 नक्सली गिरफ्तार किये गए और उनके पास से कुल 105 हथियार, 14808 कारतूस, 42333 किलोग्राम विस्फोटक, 71329 डेटोनेटर, 56 बारूदी सुरंग और लोगों से लेवी के तौर पर वसूली गयी 6,84,140 रुपये नकद राशि बरामद की गयी। उन्होंने बताया कि नक्सलियों से बरामद हथियारों में से तीन पुलिस से लूटी गयी राइफल भी शामिल हैं।

पुलिस को विस्फोटकों की सबसे बड़ी खेप 12 दिसंबर को रोहतास जिले के मुफस्सिल थाना अंतर्गत रातालाब-खरबंदा गांव में छोटन काल दुबे के मकान से मिली। इसमें 60 हजार डिटोनेटर, 55 क्विंटल अमोनियम नाईट्रेट, 32 कार्टन जिलेटिन रॉड और 10 बोरा बारूदी सुरंग विस्फोट में इस्तेमाल होने वाला फ्यूज वायर शामिल था।

पटना पुलिस ने नवंबर में गुप्त सूचना के आधार पर बिहार और झारखंड में नक्सलियों के ठिकानों पर छापामारी कर करीब 59 क्विंटल विस्फोटक और भारी मात्रा में कारतूस एवं अन्य हथियार जब्त किये।
 गया जिले में 12 नवंबर को दो अलग-अलग स्थानों पर छापामारी कर पुलिस ने प्रतिबंधित संगठन भाकपा माओवादी को देने के लिए रखा करीब 49 क्विंटल विस्फोटक और भारी मात्रा में नक्सली साहित्य बरामद किया।

दस नवंबर को पटना पुलिस ने एक गिरफ्तार व्यक्ति की निशानदेही पर झारखंड के बोकारो शहर में स्थानीय पुलिस के सहयोग से एक मकान पर छापामारी कर 315 बोर के बत्तीस हजार कारतूस, दो एके 47 और चार इंसास राइफलें बरामद की। इसी तरह सात-आठ नवंबर की रात को पटना पुलिस ने कंकड़बाग थाना क्षेत्र के कालोनी मोड़ के समीप एक लावारिस टाटा 207 को जब्त किया, जिसमें से 340 किलोग्राम विस्फोटक पाउडर और तरल पदार्थ मिले।

आठ नवंबर को ही पटना पुलिस ने विशेष कार्य बल के सहयोग से कंकड़बाग थाना क्षेत्र के भूतनाथ रोड स्थित एक मकान में छापामारी कर बिहार-झारखंड में नक्सलियों को दिया जाने वाला तरल विस्फोटक, कारबाईन बनाने के 14 कल-पुर्जे, दो देशी पिस्तौल, 12 बोर की बंदूक के 7221 कारतूस, पचास डिटोनेटर, एक बक्सा नक्सली साहित्य, सीडी एवं कैसेट और एक गाड़ी जब्त की।

पटना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक विनीत विनायक ने दावा किया कि बरामद विस्फोटक हाल में झारखंड में संपन्न होने वाले विधानसभा चुनाव और अगले साल बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान नक्सलियों द्वारा विध्वंसक गतिविधि को अंजाम देने के उद्देश्य से यहां रखा गया था और उसे यहां से अन्य स्थानों पर भेजा जा रहा था। बिहार के नालंदा जिला की पुलिस और विशेष कार्यबल [एसटीएफ] की संयुक्त टीम ने 19 जून को बिहार पटना-रांची मुख्य मार्ग के बिजवनपर गांव के समीप झारखंड के कोडरमा से एक ट्रक पर लादकर नेपाल ले जाये जा रहे एक टन नाइट्रो ग्लिसरिन विस्फोटक और 6000 डिटोनेटर के साथ पांच लोगों को गिरफ्तार किया।

चार फरवरी को बिहार पुलिस ने नक्सल प्रभावित गया जिले के शेरघाटी थाना क्षेत्र से एक सूमो विक्टा गाड़ी से करीब छह क्विंटल वजन वाले 3930 जिलेटिन स्टिक विस्फोटक के साथ तीन लोगों को गिरफ्तार किया। उल्लेखनीय है कि वर्ष 2008 में बिहार पुलिस ने नक्सल विरोधी अभियानों में कुल 450 नक्सली गिरफ्तार किये और उनके पास से कुल 133 हथियार, 17098 कारतूस, 7459 किलोग्राम विस्फोटक, 24147 डेटोनेटर, 192 बारूदीसुरंग और लोगों से लेवी के तौर पर वसूली गयी 729700 रुपये नकद राशि बरामद की थी।

पुलिस द्वारा नक्सलियों से बरामद किए गए हथियारों में पुलिस से लूटी गयी 18 राइफल भी शामिल थीं। बिहार पुलिस ने वर्ष 2007 में विभिन्न कार्रवाईयों के दौरान कुल 579 नक्सलियों को गिरफ्तार किया और उनके पास से कुल 162 हथियार, 4810 आग्नेयास्त्र, 2500 किलो विस्फोटक, 2916 डेटोनेटर, 65 बारूदीसुरंग और लोगों से लेवी के तौर पर वसूली गयी 591131 रुपये नकद राशि बरामद की थी।

पुलिस द्वारा नक्सलियों से बरामद किए गए हथियारों में पुलिस से लूटी गयी 21 राइफलें भी शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बारूद के ढेर पर रहा बिहार