class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सालभर सुर्खियों में बने रहे कुछ चेहरे

बीते बरस कुछ चेहरे ऐसे भी रहे, जो किसी खास वजह से बार-बार सुर्खियों का हिस्सा बने। इनमें कुछ चेहरे सभ्य मानव समाज पर एक बदनुमा दाग साबित हुए तो कुछ ने अपने कारनामों से इतिहास के पन्नों पर अपना नाम सुनहरे हरफों में लिख डाला। इतिहास बनने जा रहे इस बरस में अच्छे या बुरे कारणों से चर्चित रहे कुछ चेहरे इस प्रकार हैं-

आमिर अजमल कसाब
बरस भर सबकी नजरें टिकी रहीं अजमल कसाब पर। कभी जेल में बेहतर सुविधाओं की मांग करके तो कभी अपने बयान बदलकर कसाब सुर्खियों में बना रहा। 166 व्यक्तियों को मौत की नींद सुलाने वाले मुंबई हमलों के दौरान पकड़े गए एकमात्र जीवित आतंकवादी अजमल कसाब ने पहले तो अपराध की स्वीकारोक्ति करते हुए अपने लिए कड़ी सजा मांगी, लेकिन फिर कह दिया कि उसने तो एके-47 रायफल को कभी छुआ ही नहीं बल्कि केवल पुलिस वालों के पास देखा भर है। तमाम गवाहों के बयानात और हालात को मद्देनजर रखते हुए कसाब को अधिकतम सजा दिया जाना तय माना जा रहा है, लेकिन इतना बड़ा अपराध करने के बावजूद वह लगातार अपने बचाव की चालें चल रहा है।

दिनाकरन   
कर्नाटक के मुख्य न्यायाधीश पीडी दिनाकरन साल भर सुर्खियों में रहे। जमीन हड़पने के आरोपों के चलते उनके खिलाफ राज्यसभा में महाभियोग कार्यवाही के मद्देनजर सुप्रीम कोर्ट के चयन मंडल (कॉलेजियम) ने न्यायालय में उनके पदोन्नयन की अपनी अनुशंसा ठंडे बस्ते में डाल दी। न्यायमूर्ति दिनाकरन का कहना है कि उन पर लगाए गए जमीन हड़पने का आरोप निराधार एवं असत्य हैं। उन्होंने कहा कि वह साबित कर सकते हैं कि उनके परिवार के पास एक निश्चित सीमा से ज्यादा भूमि नहीं है।
 
नितिन गडकरी
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक और छात्र नेता के रूप में राजनीतिक यात्रा की शुरूआत करने वाले 52 वर्षीय नितिन गडकरी भी साल के चर्चित चेहरों में शामिल हो गए, जब 19 दिसंबर को वे भाजपा के अब तक के सबसे कम उम्र अध्यक्ष बने। लोकसभा चुनाव में पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन और उसके बाद नेताओं के बीच मची खींचतान पर संघ ने युवा और दिल्ली से बाहर के व्यक्ति को भाजपा की कमान देने की मुहिम चलाई और संघ के अनुशासित सिपाही माने जाने वाले गडकरी बाजी मार गए।

चंद्रशेखर राव
आंध्रप्रदेश में पृथक तेलंगाना राज्य की मांग लंबे समय से की जा रही थी। तेलंगाना राष्ट्र समिति के अध्यक्ष के चंद्रशेखर राव ने 11 दिनों का अनशन किया और पृथक तेलंगाना राज्य के लिए केंद्र की मंजूरी मिल गई। इसी के साथ राव भी साल के चर्चित चेहरों में शामिल हो गए।
   
अरूणा शानबाग
अरूणा शानबाग 36 बरस पहले तब सुर्खियां बनी थी जब वह मुंबई के केईएम अस्पताल में नर्स के तौर पर काम करते समय अस्पताल के ही एक सफाईकर्मी की क्रूरता और हवस का शिकार बनी थी। इस यौन उत्पीड़न में अरूणा का दिमाग मृत हो गया था। तब से वह निढाल अवस्था में बिस्तर पर पड़ी है। 61 वर्षीय अरूणा एक बार फिर चर्चित चेहरा बन गई। उसके परिजनों ने सुप्रीम कोर्ट में उसकी श्वास नली हटाने की अनुमति मांगी है ताकि अरूणा को इस त्रासदपूर्ण जीवन से मुक्ति मिल सके।

एआर रहमान
साल के चर्चित चेहरों में प्रख्यात संगीतकार एआर रहमान भी उल्लेखनीय हैं जिन्होंने स्लमडॉग मिलिनेयर के लिए न केवल दो ऑस्कर जीते बल्कि गोल्डन ग्लोब, बाफ्टा और फिर ग्रासरूट ग्रैमी अवार्ड भी जीत लिया।

वेंकटरमन रामकृष्णन
बहुत पहले अमेरिका में बस गए भारतीय-अमेरिकी वैज्ञानिक वेंकटरमन रामकृष्णन ने रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार जीत कर भारतीयों को गौरवांवित कर दिया। कोशिकीय तंत्र में प्रोटीन की रचना करने वाले अंगक राइबोसोम पर उल्लेखनीय अनुसंधान कार्य के लिए रामकृष्णन को रसायन विज्ञान को नोबेल पुरस्कार दिया गया।

आनंद जॉन
भारतीय मूल के अमेरिकी फैशन डिजाइनर आनंद जॉन अलेक्जेंडर को लॉस एंजिलिस की एक अदालत ने मॉडल बनने की तमन्ना रखने वाली सात युवतियों को शिकार बनाने और उनका यौन शोषण करने के आरोप में एक सितंबर को 59 साल की कैद की सजा सुनाई। जॉन की नए सिरे से मुकदमा चलाए जाने की मांग भी खारिज कर दी गई।

हेडली और राणा
साल के चर्चित चेहरों में पाकिस्तानी मूल का अमेरिकी नागरिक डेविड कोलमेन हेडली और पाकिस्तानी मूल का कनाडाई नागरिक तहव्वुर हुसैन राणा भी शामिल हैं। इन दोनों को एफबीआई की एक टीम ने पैगंबर मोहम्मद का कार्टून प्रकाशित करने वाले डेनमार्क के एक अखबार पर हमला करने की साजिश रचने के आरोप में तीन अक्टूबर को गिरफ्तार किया। जांचकर्ताओं का कहना है कि हेडली और राणा लश्कर-ए-तैयबा के लिए काम करते थे, उन्होंने भारत के नेशनल डिफेंस कॉलेज पर हमले की साजिश रची थी और उन्हें मुंबई हमलों की जानकारी भी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सालभर सुर्खियों में बने रहे कुछ चेहरे