class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विवादों से जुड़ा रहा बॉलीवुड का नाता

2009 में फिल्म जगत को कई विवादों से दो चार होना पड़ा। किसी फिल्म का शीर्षक बदलने को मजबूर होना पड़ा तो कहीं राजनीतिक बवाल के कारण फिल्म में किसी शब्द के इस्तेमाल पर माफी मांगनी पड़ी। सालभर में फिल्मों से जुड़े कई किस्से सामने आए।

शाहरूख खान की बहुचर्चित फिल्म बिल्लू बारबर के नाम में बारबर शब्द को लेकर एक समुदाय विशेष ने कड़ी आपत्ति जताई, जिसके चलते आखिरकार फिल्म के शीर्षक से बारबर शब्द हटा दिया गया।

गुजरात के दंगों की विभीषिका बताने वाली फिल्म फिराक गुजरात के मल्टीप्लेक्स मालिकों को रास नहीं आई। 19 मार्च को गुजरात के मल्टीप्लेक्स मालिकों ने नंदिता दास निर्देशित इस फिल्म का प्रदर्शन न करने का फैसला किया।

मणिरत्नम की बहुचर्चित फिल्म रावण की शूटिंग के दौरान जून में महाराष्ट्र में वन विभाग के अधिकारियों ने वन संपदा को नुकसान पहुंचाने को लेकर इस फिल्म के निर्माण से जुड़े 14 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया। मई में इस फिल्म की शूटिंग कुछ समय के लिये रोकी गई थी क्योंकि फिल्म के सेट पर एक हाथी भड़क गया था।

दो अक्टूबर को रिलीज हुई करण जौहर की फिल्म वेक अप सिड महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के गुस्से का निशाना बनी। पहले ही दिन महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना समर्थकों ने करण जौहर की फिल्म वेक अप सिड में मुंबई के स्थान पर बंबई का प्रयोग करने पर आपत्ति जताते हुए फिल्म का प्रदर्शन रूकवा दिया।

मनसे कार्यकर्ताओं ने पुणे स्थित सिटीप्राइड मल्टीप्लेक्स में भी वेक अप सिड फिल्म का प्रदर्शन रूकवाया। मनसे कार्यकर्ताओं द्वारा सिनेमा हाल मालिकों से फिल्म के प्रदर्शन को रोक देने के लिए कहे जाने के बाद 37 वर्षीय जौहर मध्य मुंबई स्थित ठाकरे से मुलाकात के लिए उनके निवास पर गये।

बाद में जौहर ने कहा कि मुंबई की जगह बंबई का इस्तेमाल उनकी ओर से एक भूल थी। उन्होंने कहा कि आगे से वह बंबई की जगह मुंबई का इस्तेमाल करेंगे। उन्होंने कहा कि वह किसी की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचाना चाहते और फिल्म में वह इस आशय की सूचना देंगे।

जौहर के अनुसार, मुंबई शहर के लिए रणबीर और कोंकणा के बीच एक संवाद में लगभग 12 बार बंबई का इस्तेमाल किया गया है। यह गलती फिल्म में इस्तेमाल की गयी बोलचाल की भाषा में समानता के कारण हुई। ठाकरे ने कहा कि जौहर के साथ बैठक के बाद फिल्म उद्योग को आगे किसी भी फिल्म में मुंबई का नाम इस्तेमाल करते समय सावधानी बरतनी होगी।

शिवसेना के कोप का निशाना कुर्बान भी बनी। इस फिल्म के पोस्टर में अभिनेत्री करीना कपूर की खुली पीठ दिखाई गई थी जिसे लेकर शिवसैनिकों ने अश्लीलता का आरोप लगाया और खूब हंगामा किया। आखिरकार ये पोस्टर बदलने पड़े।

नवंबर माह में संदिग्ध अमेरिकी आतंकवादी डेविड कोलमेन हेडली के साथ महेश भट्ट के बेटे राहुल का नाम जुड़ने के बाद महेश की फिल्म तुम मिले को विरोध का सामना करना पड़ा। गुजरात के राजकोट में राज्य के पूर्व गृहमंत्री गोधन झडपिया की ओर से गठित एक पार्टी के कार्यकर्ता एक सिनेमाघर में घुस गये तुम मिले का प्रदर्शन रद्द करा दिया।

महागुजरात जनता पार्टी (एमजेपी) ने पूरे राज्य में फिल्म तुम मिले को प्रतिबंधित करने की मांग की। हेडली को लश्कर-ए-तैयबा के निर्देश पर भारत में आतंकवादी हमले करने की साजिश रचने के आरोप में एफबीआई ने गिरफ्तार किया था। बाद में भट्ट से हेडली से संबंधों को लेकर पुलिस ने पूछताछ की।

एमजेपी ने इमरान हाशमी और सोहा अली खान अभिनीत फिल्म तुम मिले का प्रदर्शन रोकने की मांग करते हुए राज्य के सभी सिनेमाघरों के मालिकों को भट्ट की फिल्म प्रदर्शित करने पर गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दे दी। बहरहाल, फिल्म का प्रदर्शन हुआ और इसने बॉक्स ऑफिस पर सामान्य नतीजे दिए।

ब्रिटेन के यूनिवर्सल पिक्चर्स ने भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के जीवन पर इंडियन समर नामक फिल्म बनाने का प्रस्ताव रखा। फिल्म के लिए ह्यू ग्रांट तथा केट ब्लांशेट जैसे हॉलीवुड स्टारों का चयन किया गया।

भारत में इसे लेकर आपत्ति जताई गई। सरकार ने फिल्म इंडियन समर की पटकथा को लंबे विवाद के बाद दो अक्टूबर को इस शर्त पर मंजूरी दी कि नेहरू और एडविना माउंटबेटन से संबंधित दृश्यों पर ज्यादा जोर नहीं दिया जाएगा। लेकिन यूनिवर्सल पिक्चर्स ने इस फिल्म के निर्माण का इरादा फिलहाल त्याग दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विवादों से जुड़ा रहा बॉलीवुड का नाता