class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऑस्कर में भारत की जय के लिए याद आएगा 2009

ऑस्कर अवॉर्ड्स में अक्सर हाशिए पर रहने वाले भारतीय फनकारों ने इस वर्ष इतिहास रच डाला और 81वें ऑस्कर फिल्म समारोह में रह-रहकर भारत की जयजयकार होती रही।

तीन भारतीयों को ऑस्कर
मुंबई की झुग्गी बस्तियों के जीवन को रूपहले पर्दे पर उतारने वाले डैनी बायली की फिल्म स्लमडॉग मिलिनेयर ने सर्वश्रेष्ठ फिल्म और निर्देशक समेत कुल आठ ऑस्कर अवॉर्ड जीते। एआर रहमान को इस फिल्म में संगीत और गीत जय हो के लिए दो ऑस्कर अवॉर्ड मिले, जबकि जय हो लिखने के लिए गुलजार साहब को ऑस्कर से नवाजा गया। भारत के रसूल पोकुट्टी को साउंड मिक्सिंग वर्ग में ऑस्कर मिला।

रस्मी तौर पर आस्कर की विदेशी फिल्मों की श्रेणी में फिल्म भेजने की परंपरा के तौर पर इस वर्ष आमिर खान की तारे जमीं पर को भेजा गया था, लेकिन यह फिल्म प्रतिस्पर्धा में नामांकन के दौर तक भी पहुंच पाई और शुरूआती दौर में ही प्रतियोगिता से बाहर हो गई।

दस नामांकन पाने वाली स्लमडॉग मिलिनेयर ने सर्वश्रेष्ठ रूपांतरित पटकथा के लिए साइमन ब्यूफॉय, सिनेमेटोग्राफी के लिए एंथनी डेड मेनले और संपादन के लिए भी पुरस्कार जीते।

ऑस्कर में पिंकी
स्लमडॉग के अलावा भी समारोह में भारतीय उपस्थिति दर्ज कराई स्माइल पिंकी ने।  होंठ कटा होने के कारण सामाजिक बहिष्कार की शिकार उत्तर प्रदेश की नन्हीं सी लड़की पिंकी की कहानी के लिए मेगान मिलान ने सर्वश्रेष्ठ डॉक्यूमेंटरी का ऑस्कर पुरस्कार जीता ।

सीन और विंसलेट को ऑस्कर
मशहूर अभिनेता सीन पेन 'मिल्क' में अपने जीवंत अभिनय के लिए और केट विंसलेट को 'द रीडर' के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और अभिनेत्री चुने गए। द डार्क नाइट के लिए हीथ लेजर को मरणोपरांत सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का पुरस्कार मिला जबकि स्पेनिश अभिनेत्री पेनोलेप क्रूज 'विकी क्रिस्टीना बार्सीलोना' के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री चुनी गई।

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि पर बनी प्रेमकहानी 'द क्यूरियस केस ऑफ बेंजामिन बटन' को सबसे ज्यादा 13 नामांकन मिले थे लेकिन उसकी झोली में तीन पुरस्कार (साउंड इफेक्ट, कला निर्देशन और मेकअप) ही आए।
     
पिछली पांच बार से पुरस्कार से महरूम रही टाइटैनिक फेम अभिनेत्री विंसलेट को आखिरकार पहला ऑस्कर मिल ही गया। उन्होंने जीत के बाद कहा कि मैं इससे पहले भी कई बार यह भाषण याद कर चुकी हूं। मैंने आठ बरस की उम्र में बाथरूम के आइने में शैंपू की बोतल हाथ में लेकर पहली बार ये पंक्तियां बोली थी। लेकिन मेरा ख्वाब अब हकीकत में बदल गया है।

द डार्क नाइट को सर्वश्रेष्ठ साउंड एडिटिंग का पुरस्कार भी मिला। मौलिक पटकथा का पुरस्कार मिल्क के लिए डस्टिन लांस ब्लैक ने जीता। जापान की डिपार्चर्स को विदेशी भाषा की सर्वश्रेष्ठ फिल्म चुना गया जिसने प्रबल दावेदार मानी जा रही इजरायली फिल्म वाल्ट्ज विद बशीर को पछाड़ा।

अभिनय की श्रेणी में पुरस्कार देने के लिए पांच पिछले विजेता मरियोन कोटिलार्ड, टिल्डा स्विंटन, हैले बेरी, निकोल किडमैन, केविन क्लाइन, सोफिया लारेन, एंथनी होपिकिंस, शिरले मैकलाइन और राबर्ट डि निरो मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऑस्कर में भारत की जय के लिए याद आएगा 2009