class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुरस्कारों में भारतीयों की धूम

रहमान, गुलजार और लता दीदी
दुनियाभर में महान विभूतियों को सम्मानित कर उनके हुनर को सलाम करने की परंपरा का इस वर्ष भी पालन किया गया। एआर रहमान और गुलजार ने जहां ऑस्कर जीतकर देश का नाम रोशन किया, वहीं लता मंगेशकर को फ्रांस के शीर्ष नागरिक सम्मान से नवाजा गया। रहमान और गुलजार को जहां फिल्म स्लमडॉग मिलिनेयर की संगीत श्रेणी में ऑस्कर मिला, तो वहीं भारत कोकिला लता मंगेशकर को 29 नवंबर को फ्रांस के सम्मान द इनसाइनिया ऑफ आफिसियर डे ला लेजियर डीआनर से सम्मानित किया गया।

भारत रत्न बने भीमसेन जोशी
भारत के सर्वोच्च असैन्य सम्मान भारत रत्न की घोषणा पूरे सात साल के अंतराल के बाद इस साल की गई और यह सम्मान मिला हिंदुस्तानी शैली के प्रसिद्ध शास्त्रीय गायक पंडित भीमसेन जोशी को। 10 फरवरी को 87 वर्षीय इस कलाकार के पुणे स्थित आवास में उन्हें यह सम्मान प्रदान किया गया।

अलबरदेई को भारतीय सम्मान   
अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) के महानिदेशक मोहम्मद अलबरदेई को शांति, निरस्त्रीकरण और विकास के लिए वर्ष 2008 का इंदिरा गांधी शांति पुरस्कार प्रदान किया गया। राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने 30 सितंबर को अलबरदेई को यह सम्मान प्रदान किया।

सू की को महात्मा गांधी सम्मान
म्यामांर की लोकतंत्र समर्थक नेता आंग सान सू की को शांति और सुलह सहमति के लिए डरबन में 21 जुलाई को महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय शांति पुरस्कार प्रदान किया गया। बर्मा के निर्वासित प्रधानमंत्री थीन विन ने भारत और दक्षिण अफ्रीका से आजादी के लिए सू की के संघर्ष का समर्थन करने को कहा।

मन्ना डे को दादा साहब फाल्के   
प्रख्यात पार्श्व गायक मन्ना डे को वर्ष 2007 के प्रतिष्ठित दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। राजधानी स्थित विज्ञान भवन में एक शानदार समारोह में राष्ट्रपति ने 55वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार प्रदान करते हुए मन्ना डे को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया और पुरस्कार स्वरूप दस लाख रुपए तथा स्वर्ण कमल प्रदान किए।

रंगकर्मी अलकाजमी को हिंदी रत्न   
भारतीय रंगकर्म के शलाका पुरूष इब्राहिम अलकाजमी को एक अगस्त को हिन्दी एवं भारतीय भाषाओं के रंगकर्म के संबंध में उनके योगदान के लिए वर्ष 2009 के हिंदी रत्न सम्मान से नवाजा गया। हिंदी भवन द्वारा दिया जाने वाला हिंदी रत्न सम्मान किसी गैर-हिंदीभाषी व्यक्ति को राजभाषा हिंदी में योगदान के लिए प्रदान किया जाता है। इस सम्मान से सम्मानित होने वाले अलकाजमी 12वें व्यक्ति हैं।

गौतम भाई को सदभावना पुरस्कार
17वां राजीव गांधी राष्ट्रीय सदभावना पुरस्कार पवनार आश्रम, वर्धा के गौतम भाई को 20 अगस्त को दिया गया। उन्हें यह पुरस्कार सांप्रदायिक सौहार्द, शांति और सदभावना फैलाने की दिशा में किए गए उल्लेखनीय कार्य के लिए दिया गया।

सांप्रदायिक सदभावना पुरस्कार
डॉ. राम पुनियानी, डॉ. डोमिनिक इमैन्युएल, सेतु धर्माथ न्यास और अंजुमन सैर-ए-गुल फरोशां को 12 अगस्त को राष्ट्रीय सांप्रदायिक सदभावना पुरस्कार से सम्मानित किया। डॉ. राम पुनियानी और सेतु धर्माथ न्यास को वर्ष 2007 तथा डॉ. डोमिनिक इमैन्युएल और अंजुमन सैर-ए-गुल फरोशां को 2008 के लिए राष्ट्रीय सांप्रदायिक सदभावना पुरस्कार दिया गया है।
   
डॉ. पुनियानी आईआईटी मुंबई के पूर्व प्रोफेसर हैं और व्याख्यानों, प्रकाशनों तथा सभाओं के द्वारा शांति एवं सौहार्द का संदेश फैलाने के लिए उन्हें यह पुरस्कार दिया गया है। वर्ष 2008 के लिए यह पुरस्कार पाने वाले डॉ. डोमिनिक साम्प्रदायिक सदभाव के लिए पिछले दो दशक से कार्यरत हैं। दिल्ली स्थित अंजुमन सैर-ए-गुल फरोशां 1960 के दशक से साम्प्रदायिक सौहार्द के काम में सक्रिय है। राष्ट्रीय सांप्रदायिक सदभावना पुरस्कार की स्थापना गृह-मंत्रालय के अंतर्गत राष्ट्रीय सांप्रदायिक सौहार्द प्रतिष्ठान ने 1996 में की थी।

बहादुरी के लिए कबीर पुरस्कार
जान पर खेलकर अन्य समुदायों के लोगों की हिफाजत करने वाले खलीफा गुफरान, अब्दुल गनी अब्दुल्ला कुरेशी और गुलाम अहमद बट को प्रतिष्ठित कबीर पुरस्कार से सम्मानित किया गया। गुफरान को 2006 में सहारनपुर में सांप्रदायिक दंगे होने से रोकने और कुरेशी को जून 2006 में गुजरात के वडोदरा शहर में दंगें में फंसे दो हिंदू परिवारों को दंगाइयों से बचाने के लिए सम्मानित किया गया। बट ने उस परिवार की मदद की थी, जिसके सात सदस्यों को आतंकवादियों ने मार्च 1997 में बडगाम में मार दिया था। उन्होंने गोली से जख्मी केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के एक जवान की जान भी बचाई थी और उसे प्राथमिक चिकित्सा दी थी।
   
विदेशों में भारतीयों ने पुरस्कार हासिल करने में कसर नहीं छोड़ी:-

बिग बी को मिला लाइफटाइम एचीवमेंट सम्मान: 10 दिसंबर को दुबई अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में मेगास्टार अमिताभ बच्चन को लाइफटाइम एचीवमेंट अवॉर्ड से सम्मानित किया गया।

रहमान बने विशिष्ट सदस्य: स्लमडॉग मिलेनियर के लिए दो ऑस्कर जीतकर इतिहास रच चुके संगीतकार एआर रहमान को ऑस्कर पुरस्कार प्रदान करने वाली एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइंस ने मताधिकार प्राप्त सदस्य की हैसियत से शामिल होने के लिए आमंत्रित कर दोबारा सम्मानित किया। एकेडमी ने कुल 134 कलाकारों और चंद खास लोगों को सदस्यता के लिए आमंत्रित किया है जिनमें रहमान एकमात्र भारतीय हैं।
   
यश चोपड़ा बने बेस्ट डायरेक्टर: भारतीय फिल्मकार यश चोपड़ा को नौ अक्टूबर को एशिया के एक शीर्ष फिल्म महोत्सव में साल का फिल्मकार चुना गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पुरस्कारों में भारतीयों की धूम