DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रूचिका के परिवार को वित्तीय मुआवजा मिले

बहुचर्चित रुचिका गिरहोत्र मामले के दोषी हरियाणा के पूर्व पुलिस महानिदेशक एस.पी.एस.राठौर से सभी सम्मान छीनकर राज्य सरकार को रुचिका के परिजनों को मुआवजा देना चाहिए। यह कहना है कि रुचिका की दोस्त आराधना के पिता आनंद प्रकाश का।

प्रकाश ने शनिवार को कहा कि ऐसे अपराध में छह महीने की सजा कुछ भी नहीं है लेकिन हम संतुष्ट हैं कि अदालत ने राठौर को दोषी माना। अब हम चाहते हैं कि संबद्ध विभाग राठौर से उसको अब तक मिले सभी सम्मान छीन लें। रुचिका के परिजनों को वित्तीय मुआवजा दिलाने के लिए हम अदालत में याचिका दायर करेंगे। रुचिका के भाई आशु को भी पुलिस प्रताड़ना का शिकार होना पड़ा था।

प्रकाश ने कहा कि हम पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में रुचिका मामले को फिर से खोलने और राठौर पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाने के लिए याचिका दायर करेंगे। प्रकाश ने कहा अब तक मैं अकेले था इसलिए राठौर अपनी इच्छा से हेरफेर करता था लेकिन आज पूरे समाज का समर्थन प्राप्त है। हमें भरोसा है कि अदालत उसे उसके अपराध के अनुरूप सजाइ जरूर देगी।

गौरतलब है कि 12 अगस्त, 1990 को हरियाणा के  राठौर ने 14 वर्षीय रुचिका के साथ दु्र्व्यवहार किया था और इसके तीन साल बाद रुचिका ने आत्महत्या कर ली थी। राठौर को अदालत ने छह माह कारावास की सजा सुनाई लेकिन दस मिनट बाद ही उसे जमानत मिल गई।

न्याय के लिए शनिवार को यहां  सेक्टर-17 में एक गैर सरकारी संगठन और समाज के विभिन्न क्षेत्रों के लोगों ने एक मानव श्रृंखला बनाई। मामले की एकमात्र गवाह आराधना ने इस मानव श्रृंखला का नेतृत्व किया। गैर सरकारी संगठन सीएफएचआर के कार्यकर्ताओं ने रुचिका मामले के दोषी और हरियाणा के पूर्व पुलिस महानिदेशक एस.पी.एस.राठौर के खिलाफ नारेबाजी की। लोगों ने रुचिका मामले को फिर से खोलने की मांग की।

सीएफएचआर के राष्ट्रीय सचिव सुशील गुप्ता ने कहा कि प्रभावशाली लोगों ने न्याय व्यवस्था, पुलिस और राजनीति व्यवस्था को मजाक बना दिया है। एक लोकतांत्रिक देश में इसे स्वीकार नहीं किया  जाएगा और हम देश के अन्य हिस्सों में भी विरोध प्रदर्शन जारी रखेंगे। हम चाहते हैं कि कोर्ट रुचिका मामले को फिर से खोले।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रूचिका के परिवार को वित्तीय मुआवजा मिले