DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रैगिंग ने ली आकांक्षा की जान

राजकीय महिला पालीटेक्निक में इनफार्मेंशन टेक्नालोजी प्रथम वर्ष की 16 वर्षीय छात्र आकांक्षा दुबे की जान रैगिंग ने ले ली। आकांक्षा के पिता की तहरीर पर छात्र के रूम पार्टनर छात्र ज्योत्सना सिंह, शिवलक्ष्मी शुक्ला व वार्डन सुरेश राम के खिलाफ काफी जद्दोजहद के बाद शुक्रवार की रात मुकदमा दर्ज हुआ। विवेचना के दौरान आकांक्षा की मौत के और भी राज खुलने के आसार हैं।

गोरखपुर जिले के खजनी थाना क्षेत्र के ग्राम भगवान टोला भखरा निवासी आकांक्षा दुबे पुत्री राजेश कुमार दुबे को महिला पॉलीटेक्निक के न्यू हास्टल का कक्ष संख्या 14 एलाट था। यही  कमरा आजमगढ़ की इलेक्ट्रानिक कम्युनिकेशन कोर्स की छात्र ज्योत्सना सिंह व इसी कोर्स की हरदोई की छात्र शिवलक्ष्मी शुक्ला व पीजीडीसीए कोर्स की बस्ती निवासी चाँदनी राव को भी यही कमरा आवंटित किया  गया है।

21 दिसम्बर सोमवार को पूर्वाह्न् 10 बजे के करीब कमरा नंम्बर 14 में आकांक्षा दुबे की जल कर मौत होना बताया जा रहा है। पॉलीटेक्निक प्रशासन व पुलिस अफसर इस केस को खुदकुशी मान रहे हैं। कमरे के हालात आकांक्षा के मौत को रहस्यमय परिस्थितियों की ओर संकेत करते दिखती है।

इसे ‘हिन्दुस्तान’ ने प्रमुखता से प्रकाशित किया। शुक्रवार को आकांक्षा के पिता राजेश दुबे ने पुलिस को दिए गए तहरीर में कहा है कि पुत्री आकांक्षा की रूम पार्टनर ज्योत्सना सिंह व शिवलक्ष्मी शुक्ला हैरान परेशान करती थी। उसकी किताब फाड़ देती थी और उसे निरवस्त्र भी करती थी।

गन्दी गाली देकर रैगिंग करना दोनों का शगल था। आकांक्षा मुझसे इसकी शिकायत करती थी। मैं आकर दोनों लड़कियों को कई बार समझा चुका था। वार्डन सुरेश राम से भी इस कृत्य की लिखित और मौखिक शिकायत की गई थी और रूम बदलने का आग्राह भी किया गया था। इस पर वार्डन ने ध्यान नहीं दिया।

ज्योत्सना व शिवलक्ष्मी से रैगिंग प्रताड़ित होकर आकांक्षा की मौत हुई। इस बीच  लाडली बिटिया के मौत के हादसे से  बड़े पिता गिरिजापति दुबे ने भी दमतोड़ दिया। राजेश दुबे पर बेटी के साथ ही बड़े पिता के भी मौत का सदमा लगा।

पिता राजेश का कहना है कि सदमे से उबरने में कुछ समय लगा इस कारण 21 दिसम्बर को आकांक्षा की मौत की तहरीर  25 दिसम्बर को दी। कैन्ट थाना पुलिस ने इस मामले में अपराध संख्या 296 भादवि की धारा 306 के तहत मुकदमा दर्ज किया है। इस मामले की विवेचना थानाध्यक्ष रौनाही अरविन्द यादव को सौंपी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रैगिंग ने ली आकांक्षा की जान