class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डॉक्टर गैरहाजिर, मरीज परेशान

डॉक्टरों के अवकाश पर जाने से अस्पतालों में स्वाइन फ्लू के मरीजों की परेशानी बढ़ गई है। मरीज जांच व दवा के लिए भटक रहे हैं। इस बीमारी के मरीज रोज अस्पतालों में पहुंच रहे हैं।

निजी पैथोलाजिकल लैब से रोज एक-दो मरीजों में इसकी पुष्टि की जा रही है। खान अस्पताल और बीके अस्पताल की ओपीडी में भी इसके संभावित मरीजों की संख्या बढ़ रही है।  शनिवार को निजी पैथोलाजिकल लैब ने सेक्टर 13 और 14 में दो मरीजों में पुष्टि की है।

स्वाइन फ्लू की देखरेख की जिम्मेदारी सोमवार तक प्रशिक्षु पैथोलाजिस्ट पर है। सर्दी के साथ स्वाइन फ्लू के मरीजों में वृद्धि हो रही है। इसकी संख्या बढ़कर 174 हो गई है। अस्पताल में रोज 30 से 35 मरीज जांच के लिए आ रहे हैं।

इसके बावजूद स्वाइन फ्लू के नोडल अधिकारी डॉ. ओपी मेहता और ओपीडी के इंचार्ज डॉ. अरविंद लोहान अवकाश पर हैं। औपचारिकता पूरी करने के लिए ओपीडी में सामान्य रोग विशेषज्ञ को तैनात किया गया है। फिर भी संभावित मरीज ओपीडी के बाहर भटकते रहते हैं।

स्वाइन फ्लू की दवा को शेडयूल एक्स में रखा गया है। इसका रिकार्ड मेंटेन करते हुए गंभीर रोगियों को देना है। इसके बावजूद इस दवा को सर्दी, खांसी और जुकाम होने पर भी दिया जा रहा है। इसके कारण दूसरे मरीजों पर स्वाइन फ्लू असर नहीं करेगा।

नोडल अधिकारी डॉ. ओपी मेहता ने बताया कि आईसीएसपी के प्रोजेक्ट अधिकारी को अधिकार सौंपा गया है। ओपीडी में एक डॉक्टर तैनात है। लोगों को जागरुक कर इस रोग से बचाया जा सकता है।

 

 

 

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डॉक्टर गैरहाजिर, मरीज परेशान