class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गैरहाजिरी में फंसे 80 अधिकारी-कर्मचारी

छुट्टी मंजूर कराए बिना दफ्तरों से गायब रहने वाले अधिकारी और कर्मचारियों की शामत आ गई है। विकास भवन और कलेक्ट्रेट में सुबह-सुबह प्रभारी डीएम ने सबकी हाजिरी ली तो अस्सी लोग गैरहाजिर मिले। प्रशासन अब सबकी सर्विस बुक में बेड एंट्री दर्ज करा रहा है।

डीएम और सीडीओ के अवकाश पर होने की वजह से इस वक्त सरकारी दफ्तरों का हाल बुरा नजर आ रहा है। कलेक्ट्रेट और विकास भवन के मुखिया नहीं हैं तो दोनों जगहों के अधिकारी-कर्मचारी भी अपने आफिसों से गायब नजर आ रहे हैं।

एडीएम सिटी एसके श्रीवास्तव ने पिछले दिनों विकास भवन की चेकिंग में की थी तो 36 अधिकारी और कर्मचारी डय़ूटी से गायब मिले थे। प्रशासन ने ऐसे सभी अधिकारी और कर्मचारियों का वेतन काटा था। शनिवार को गैरहाजिरी का आंकड़ा 80 की संख्या पार कर गया।

प्रभारी डीएम ने बताया कि सुबह डय़ूटी टाइम पर जब कलेक्ट्रेट और विकास भवन में हाजिरी चैक की गई तो जिला निर्वाचन कार्यालय के तीन, अर्थ एवं संख्या विभाग के नौ, संयुक्त कार्यालय के 13, कोषागार के चार, नजारत के सात, लघु सिंचाई के छह, आरईएस के तीन, कृषि रक्षा से एक, मत्स्य से सात, नजारत के सात कर्मचारी-अधिकारी डय़ूटी पर नहीं मिले।

इन सभी की चरित्र पंजिका में प्रतिकूल प्रवृष्टि अंकित कर प्रमोशन रोकने की कार्रवाई शुरू कराई गई है, ताकि आगे से कोई भी ड्यूटी टाइम पर गायब न मिले।

 

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गैरहाजिरी में फंसे 80 अधिकारी-कर्मचारी