अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इशांत शर्मा अगले वनडे व बांग्लादेश दौरे से बाहर

इशांत शर्मा अगले वनडे व बांग्लादेश दौरे से बाहर

कभी अपनी खतरनाक इनस्विंग गेंदों से आस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग जैसे दिग्गज बल्लेबाज को डराने वाले इशांत शर्मा अब अपना जादू खो बैठे हैं और उन्हें टीम इंडिया से बाहर कर दिया गया है। इशांत को श्रीलंका के खिलाफ रविवार को यहां होने वाले पांचवें और अंतिम वनडे तथा अगले महीने बांग्लादेश में होने वाली त्रिकोणीय एकदिवसीय श्रृंखला के लिए टीम इंडिया से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है।
 
राजधानी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर इशांत की गाडी अब पटरी से उतर चुके हैं और उनके लिए आगे की डगर काफी मुश्किल हो गई है। राष्ट्रीय चयनकर्ताओं और टीम प्रबंधन ने पिछले कुछ महीनों में उनके लगातार खराब प्रदर्शन के बावजूद उन्हें बार-बार मौके दिए गए लेकिन इशांत ने यह मौके बार-बार गंवाए।

दिल्ली के इशांत को श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला में पहले टेस्ट के बाद हटा दिया गया था और उनकी जगह लाए गए शांतकुमारन श्रीसंत ने 18 महीने बाद अपनी वापसी को सार्थक करते हुए भारत को कानपुर के दूसरे टेस्ट में शानदार जीत दिलाई।

इशांत को इसके बाद श्रीलंका के खिलाफ पहले दो वनडे के लिए भी टीम से हटा दिया गया था लेकिन श्रीसंत के स्वाइन फ्लू से पीडित होने के कारण उन्हें अगले दो मैचों में वापसी करने का मौका मिल गया था। यह ऐसा अवसर था जिसे उन्हें भुना लेना चाहिए था मगर वह बुरी तरह असफल रहे। इन दो मैचों में इशांत ने 14 ओवरों में 130 रन लुटाए और 65 के बेहद महंगे औसत से सिर्फ दो विकेट ही हासिल कर पाए। इससे पहले आस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू श्रृंखला में वह चार मैचों में 33.00 के औसत से छह विकेट ही हासिल कर पाए थे।

छह फुट चार इंच लंबे इस गेंदबाज को एक समय भारतीय तेज गेंदबाजी का अग्रदूत माना जाने लगा था जब उन्होंने एक समय 150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से भी अधिक तेज गेंद फेंकी। लेकिन पिछले कुछ समय में उनकी गति में भी गिरावट आई और उनकी वह खतरनाक इनस्विंग भी कहीं खो गई लगती है जिसके दम पर उन्होंने पोंटिंग जैसे बडे बल्लेबाज को प्रभावित किया था।
 
अपने करिअर में 19 टेस्टों में 54 विकेट और 41 वनडे में 56 विकेट ले चुके इशांत के फार्म में गिरावट इस वर्ष के शुरू में श्रीलंका दौरे के बाद से ही आनी शुरू हो गई थी। श्रीलंका में पांच मैचों की श्रृंखला में इशांत ने दस विकेट हासिल किए थे। लेकिन न्यूजीलैंड के दौरे में दो मैचों में वह तीन विकेट और वेस्टइंडीज के दौरे में तीन मैचों में दो विकेट ही हासिल कर पाए थे। श्रीलंका में त्रिकोणीय श्रृंखला के दौरान उन्हें तीन मैचों में मात्र चार विकेट मिले थे।
 
चैंपियंस ट्राफी में दो मैचों में इशांत केवल तीन विकेट ले पाए थे। आस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू श्रृंखला में उन्हें पांच मैचों में छह विकेट ही मिले थे जबकि श्रीलंका के खिलाफ मौजूदा श्रृंखला में दो मैचों में वह दो विकेट ही हासिल कर पाए। इन सभी मैचों में इशांत के साथ गेंदबाजी पर नियंत्रण न हो पाना उनकी सबसे बडी समस्या रही। मुक्त भाव से रन लुटाने के कारण वह अपनी लाइन और लेंथ से नियंत्रण ही खो बैठे।
 
किसी गेंदबाज पर जब बल्लेबाज खुलकर प्रहार करते हैं तो उसकी विकेट लेने की मारक क्षमता प्रभावित होती है और यही बात इशांत के साथ भी लागू हो रही है। बल्लेबाज उनकी गेंदों को बुरी तरह पीट रहे हैं। मौजूदा श्रृंखला में श्रीलंकाई बल्लेबाजों ने उन्हें खासतौर पर निशाना बनाया है। कटक में उन्होंने सात ओवर में 63 रन और कोलकाता में इतने ही ओवर में 67 रन दे डाले थे।
 
पहले दो वनडे से हटाए जाने के बाद इशांत ने अपनी दिल्ली टीम की तरफ से कोलकाता में बंगाल के खिलाफ जो रणजी मैच खेला था उसमें भी वह प्रभावित नहीं कर पाए थे। इशांत के लिए अब जरूरी है कि वह घरेलू क्रिकेट में लौटे और अपनी गेंदबाजी पर जमकर मेहनत करें। वह अभी सिर्फ 21 वर्ष के हैं और उनके सामने लंबा करिअर खुला हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इशांत शर्मा अगले वनडे व बांग्लादेश दौरे से बाहर