class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

67 की उम्र में 6+7=13 के अमिताभ

67 की उम्र में 6+7=13 के अमिताभ

‘पा’ में ‘प्रोजेरिया’ बीमारी से पीड़ित तेरह वर्ष के बच्चों की भूमिका निभाकर सदी के महानायक अमिताभ बच्चन एक बार फिर से बड़ी चर्चा में हैं। अपने बेटे का बेटा बनकर ऐसा मर्मस्पर्शी अभिनय कोई हंसी-खेल नहीं है। और फिर ऐसा अनायास भी नहीं हुआ है। अमिताभ की जन्मकुंडली के ग्रह-नक्षत्र बताते हैं कि अभी ऐसे कई अफसानों की इबारत वह सेल्युलाइड पर लिखने वाले हैं, जो अभिनय में करिश्मों का जीवंत आर्काइव होगा। 67 वर्ष की उम्र में ‘पा’ फिल्म में प्रोजेरिया पीड़ित 13 वर्षीय बच्चों के गेटअप में अमिताभ ने अद्भुत अभिनय कर एक बार फिर खुद को बॉलीवुड का शहंशाह साबित किया है।

सत्तर के दशक में आनंद (1971) फिर जंजीर (1973) के सुपरहिट होने के बाद से विगत चार दशक से अमिताभ हिन्दी फिल्मों के सरताज और फिल्म इंडस्ट्री की जान बने हुए हैं। मोहब्बतें (2000) से अपनी तीसरी सफल पारी प्रारंभ कर अमिताभ विगत नौ वषरे में बढ़ती उम्र एवं बीमारी के बावजूद अभिनय के शहंशाह बने हुए है। अक्स, कभी खुशी-कभी गम (2001), बागवान (2003) ब्लैक, बंटी और बबली, सरकार (2005), निशब्द, एकलव्य, चीनी कम (2007), भूतनाथ, सरकार राज (2008) अलादीन, और अब ‘पा’ (2009) के माध्यम से अपनी जबरदस्त अदाकारी का लोहा पूरी दुनिया में मनवा रहे हैं।

क्या है जो अमिताभ को फिल्म-दर-फिल्म अलग-अलग भूमिकाओं में बड़ी सफलता दिला रहा है ?
क्या है जो रिटायरमेंट के उम्र में भी अमिताभ को अति व्यस्तता दिए जा रहा है?
क्या है जिसकी वजह से अमिताभ के सामने शाहरूख, आमिर, अक्षय भी फिके नजर आते हैं?
आइये आज इन सवालों के जवाब के लिए अमिताभ के सितारों पर एक नजर डालते हैं साथ ही ये भी जानेंगे कि कैसा है उनका आनेवाला कल?

ज्योतिषीय प्रोफाइल
अमिताभ बच्चन का जन्म कुंभ लग्न तथा स्वाति नक्षत्र की द्वितीय चरण अर्थात् तुला राशि में हुआ है। भाग्येश, सुखेश शुक्र तथा पंचमेश बुध की युति से बना केन्द्र-त्रिकोण राजयोग ने जीवन में अमिताभ के माध्यम से जबदस्त उपलब्धि दिलायी।

बृहस्पति-चन्द्र से बने गजकेसरी योग ने पूरे विश्व में ख्याति अर्जित करायी। दर्शकों के दिलों पर सम्मानित तरीके से राज कराया । भाग्यवेश शुक्र तथा कमेशि मंगल की युति से बना उत्तम केन्द्र त्रिकोण व महाभाग्य योग अत्यंत भाग्यशाली धार्मिक, हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री का मजबूत स्तंभ तथा सदी का महानायक बनाया । कलानिधि योग ने अभिनय में महारथ एवं सर्वश्रेष्ठ अभिनय के फिल्म फेयर, राष्ट्रीय पुरस्कार हासिल कराए।अष्टम भाव स्थित मंगल एवं लगAस्थ केतु ने कुली (1982) फिल्म की शूटिंग के दौरान दुर्घटना करायी। शनि-राहु की दशा अंतरदशा के साथ शनि की साढ़ेसाती ने राजनीति में प्रवेश और सन्यास दोनों कराये। अष्टम बुध-शुक्र दशा अंतर में नीचस्थ शुक्र ने मिस वर्ल्ड सौंदर्य प्रतियोगिता (1996) का एनीसीएल के बैनर तले बनेगा करोड़पति आर्थिक संकट उत्पन्न करने वाला बना। केन्द्र-त्रिकोण राजयोग में शामिल बुध-मंगल दशा-अंतरदशा में कौन बनेगा करोड़पति (2000) से पुन: आर्थिक उन्नति के साथ इंडस्ट्री में धमाकेदार वापसी करायी।

अमिताभ की कुंडली के अष्टम भाव में सूर्य, मंगल, बुध तथा शुक्र की युति जीवन की महत्वपूर्ण उपलब्धि, विश्व प्रसिद्धि, धन-दौलत की प्राप्ति और बार-बार शारीरिक व आर्थिक संकट के कारण बने हैं। नीच भंग राजयोग ने बार-बार विपरीत परिस्थितियों के बावजूद दुगुनी सफलता दिलायी।

आने वाला कल
अमिताभ केतु की महादशा में 6 नवंबर, 2014 तक और शनि की साढ़ेसाती में 26 अक्टूबर, 2017 तक रहेगें। केतु लगस्थ होकर लग्नेश शनि से दृष्ट है। अत: आगामी वषरे में अमिताभ फिल्म-दर फिल्म अपने लाजवाब अभिनय के नए-नए मानक बनाते रहेगें। उत्तम अभिनय के लिए महत्वपूर्ण राष्ट्रीय-अर्न्तराष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजे जायेंगे। बड़ा आर्थिक अनुबंध तथा अपनी प्रोडक्शन कंपनी एबीसीएल को पुन: रफ्तार पकड़ाने में कामयाब रहेंगे। पुत्र अभिषेक को फिल्मों में आगे बढ़ाते दिखेंगे। फिल्मों के अतिरिक्त विज्ञापनों में भी छाये रहेगें। सामाजिक कायरे में संलग्नता बढ़ेगी किन्तु राजनीति से दूर रहेंगे। राहु के नक्षत्र स्थित केतु दशा में अमिताभ को नवंबर, 2011 तक समय-समय पर स्वास्थ्य को लेकर शारीरिक आघात की स्थिति भी उत्पन्न करता रहेगा। एक तरफ फिल्मों में नए मानक (बेंच मार्क) बनायेंगे, दूसरी तरफ स्वास्थ्य में गंभीर संकट  का सामना भी करना पड़ेगा। वैसे अमिताभ अभिनय के मामले में आखिरी दम तक शाहरूख, आमिर, अक्षय तथा रितिक पर सदैव भारी पड़ेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:67 की उम्र में 6+7=13 के अमिताभ