class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

समंदर हम तुझे कभी माफ नहीं करेंगे

समंदर हम तुझे कभी माफ नहीं करेंगे

तमिलनाडु में पांच साल पहले आये भयावह सूनामी की यादें अब भी ताजा हैं जिसमें कम से कम आठ हजार लोगों की मौत हो गयी थी। मृतकों के परिजनों ने आंसू के साथ उनको शनिवार को याद किया जो सूनामी की चपेट में आकर काल के गाल में समा गए थे।

इस हादसे का शिकार होने वाले लोगों के सम्मान में तथा उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए मोमबत्तियां जला कर जुलूस निकाला गया और विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।

इंडोनेशिया में समुद्र में आए भूकंप के कारण सूनामी की लहरें उठी थी। आजादी के बाद देश की प्रमुख प्राकृतिक आपदाओं में से एक सुनामी के कारण जहां बड़ी संख्या में लोग मारे गए वहीं संपत्ति को भी व्यापक नुकसान हुआ था।

समंदर के किनारे रहने वाले मछुआरे तथा सैर पर निकले लोग उस काले रविवार को कुछ समझ पाते, इससे पहले ही पानी की ऊंची ऊंची लहरें उन्हें बहा ले गयीं। प्रभावितों के पुनर्वास के लिए सरकार करोड़ों रुपये जारी कर चुकी है। कई संस्थायें भी अपने काम में जुटी हैं।

प्राकतिक हादसे से सर्वाधिक प्रभावित नागपट्टनम में लोगों के जेहन में दर्दभरी यादें अभी भी ताजा हैं लेकिन जीवन अनवरत रूप से चल रहा है। नागपट्टनम में तकरीबन छह हजार लोगों की मौत हो गयी थी और लाखों लोग बेघर हो गए थे।

पिछले पांच साल में जिले में लोगों के जीवन स्तर में बदलाव आया है। युवाओं के लिए बड़े पैमाने पर संगठित और असंगठित क्षेत्र में रोजगार विकसित किये गए हैं जिसका असर दिखने लगा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:समंदर हम तुझे कभी माफ नहीं करेंगे