class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल को छू गई गंभीर की खेल भावना

दिल को छू गई गंभीर की खेल भावना

यूं तो क्रिकेट में खेल भावना की कई मिसाल देखने को मिलती है। लेकिन गुरुवार रात टीम इंडिया के धुरंधर बल्लेबाज गौतम गंभीर ने जो खेल भावना दिखाई वह पूरे देश को छू गई।

क्रिकेट में ऐसे बहुत कम अवसर देखने को आते होंगे जब कोई खिलाडी मैन ऑफ द मैच बने लेकिन वह खुद यह पुरस्कार न लेकर अपने एक युवा खिलाडी़ को दे दे। गंभीर ने गुरुवार को कुछ ऐसा ही काम कर क्रिकेट प्रेमियों का मन मोह लिया।

गंभीर को श्रीलंका के खिलाफ चौथे वनडे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में भारत की सात विकेट की जीत में नाबाद 150 रन बनाने के कारण मैन ऑफ द मैच घोषित किया गया। लेकिन उन्होंने एक लाख रुपए का यह पुरस्कार खुद न लेकर इसे अपने युवा बल्लेबाज विराट कोहली को दे दिया। जिन्होंने इस मैच में बेहतरीन 107 रन बनाए थे और गंभीर के साथ 214 गेंदों में 224 रन की मैच विजयी साझेदारी की थी।

गंभीर ने इस मौके पर कहा कि विराट ने एक बेहद उम्दा पारी खेली और श्रीलंकाई गेंदबाजों पर कहर बनकर टूट पडे़ और उनपर से दबाव कम कर दिया। उन्होंने कहा कि मेरा काम एक छोर से रन स्कोर करते रहना था और दूसरे छोर पर विराट गेंदबाजों पर अटैक कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि दो विकेट जल्दी गिर जाने के बाद हमारे लिए एक साझेदारी करना बहुत महत्वपूर्ण था और मैंने तथा विराट ने यही काम किया। गंभीर ने कहा कि पिछले दो मैचों में वह शानदार कैच और रनआउट के कारण जल्दी आउट हो गए थे लेकिन यहां ऐतिहासिक ईडन गार्डन में उन्होंने मौके का पूरा फायदा उठाया और भारत के लिए इस महत्वपूर्ण मैच में नाबाद शतकीय पारी खेलकर टीम को सीरीज जीत दिलाई।

गंभीर ने कहा कि मुझे मालूम था कि हमें 35 ओवर तक विकेट पर टिके रहना है और उसके बाद जीत की तरफ बढ़ना है। मेरे लिए ईडन गार्डन जैसे मैदान में और इतने सारे दर्शकों की मौजूदगी में शतक बनाना वाकई एक विशेष अनुभूति है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल को छू गई गंभीर की खेल भावना