अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आंख में धूल झोंक फुर्र हो गई माफिया ‘सुंदरी’, खास लोगों के लिए बनाती है सूखे मेवे की ‘स्पेशल’

शहर के समीप गंगा की कछार में उमा उर्फ ‘कगवा’ का राज चलता है। अवैध शराब के संगठित धंधे में लिप्त यह 36 वर्षीया महिला माफिया सिर्फ महुआ ही नहीं ‘विशिष्ट जनों’ के लिए सूखे मेवे की स्पेशल शराब भी बनाती है जिसकी खूब डिमाण्ड है।

उसकी अवैध फैक्ट्री में बीस मजदूर काम करते हैं। उसे गिरफ्तार करने के लिए आईजी ने फरमान जारी कर रखा है। इसके तहत आबकारी और पुलिस विभाग की टीम ने शुक्रवार को उसके ठिकाने पर छापा मारा लेकिन तब तक वह अपने कामगारों के साथ गंगा में छलाँग लगाकर उसपार निकल गई। 

छापे में वहाँ बीस भट्ठियों पर शराब बनती पाई गई। इन भट्ठियों के बगल में ही दो-दो सौ लीटर के डेढ़ सौ ड्रमों में महुए का लहन पानी में दबाकर रखा गया था। पुलिस के जवान भट्ठियों की तरफ बढ़े तो ‘कगवा’ अपने मजदूरों के साथ गंगा में कूद कर लहरों के बीच उस पार निकल गई। इससे पहले भी पुलिस ने छापा मारा था लेकिन ‘कगवा’ लोगों की आँख में धूल झोंक कर निकल गई थी।

आबकारी निरीक्षक राकेश कुमार सिंह ने बताया कि ‘कगवा’ और उसका भाई अमरनाथ इस क्षेत्र के अवैध शराब के सबसे बड़े व्यवसायी हैं। ‘कगवा’ ने कच्ची शराब की बिक्री के लिए शहर के कई मोहल्लों में भी अपने गुर्गे तैनात कर रखे हैं।

सिर्फ महुआ ही नहीं विशिष्ट लोगों के लिए यह महिला सूखे मेवे की स्पेशल शराब भी तैयार करती है। इन विशिष्ट ग्राहकों को आन डिमांड शराब की आपूर्ति की जाती है। इसलिए कई सफेदपोश लोगों से भी इसके काफी अच्छे संबंध हैं। फिलहाल आबकारी और पुलिस दोनों ही महकमों को इस महिला की तलाश हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आंख में धूल झोंक फुर्र हो गई माफिया ‘सुंदरी’