class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुफ्त में गटका जा रहा लाखों लीटर पानी

जलविभाग के एक डिवीजन की ओर से किए गए सर्वे में इस बात का पता चला है कि शहर में लाखों लीटर पानी को मुफ्त में गटका जा रहा है।  विभाग की ओर से पानी के चोरों को नोटिस भेजा गया है, जिसमें से काफी कम संख्या में लोग कनेक्शन को नियमित कराने के लिए आगे आएं हैं।

शहर के सेक्टरों में आठ हजार पानी के अवैध कनेक्शन हैं। इन कनेक्शनों के जरिए उद्योग व आवास मुफ्त में लाखों लीटर पानी गटक रहे हैं और अथॉरिटी के राजस्व को लाखों रुपए का चूना लगा रहे हैं। बाकियों को विभाग एक बार फिर से नोटिस भेजने जा रहा है। 

सेक्टर 22, 55,56,57,58, 59, 62,64 व संबंधित अन्य सेक्टरों में जलविभाग के डिवीजन-एक की ओर से कराए गए सर्वे में दो हजार से ज्यादा उद्योग व घर ऐसे पाए गए, जहां पर पानी का उपयोग तो जमकर किया जाता है लेकिन कनेक्शन अवैध हैं। जलविभाग के अकाउंट डिपार्टमेंट के अनुसार यही स्थिति जल-दो और जल-तीन के अधीन सेक्टरों की भी है। 80 प्रतिशत उद्योग जबकि 20 प्रतिशत घर अवैध कनेक्शनों के जरिए पानी पी रहे हैं।

सर्वे के बाद ऐसे स्थानों को चिंहित करके उन्हें नोटिस भेजा जा चुका है। कुछ ने ही कनेक्शनों को नियमित करा लिया है जबकि काफी संख्या में कनेक्शन अभी भी नियमित नहीं कराए गए हैं। अकाउंट विभाग अपनी लिस्ट के आधार पर एक बार फिर से नोटिस भेजने की तैयारी में है।

चलाया जाता है छापेमारी अभियान भी: साल में दो बार यानि दिसंबर और जून माह में अवैध कनेक्शन धारकों को पकड़ने के लिए छापेमारी अभियान चलाया जाता है। अभियान के लिए विभाग की ओर से दस टीमें गठित की जाती है, इसके बावजूद भी पकड़े जाने वाले कनेक्शनों की संख्या एक प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो पाती है।

जलविभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार पानी के अवैध कनेक्शन सिरदर्द बने हुए हैं।
 

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुफ्त में गटका जा रहा लाखों लीटर पानी