class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

होमगार्ड को दंगों से निपटने की विशेष ट्रेनिंग

राज्य सरकार होमगार्ड को स्पेशल फोर्स के रूप में विकसित करने में जुटी है। राज्य में दंगो और हिंसक भीड़ से निपटने के लिए रैपिड एक्शन फोर्स (रैफ) की तरह विशेष फोर्स की कमी लंबे समय से महसूस की जाती रही है। इसको ध्यान में रखकर नया प्रयोग शुरू हुआ है।

बीएमपी के बाद अब होमगार्ड को भी एंटी राइट फोर्स के रूप में तैयार करने की योजना है। हाल ही में होमगार्ड के विशेष बटालियन के गठन की प्रक्रिया शुरू की गयी है। पहले चरण में 225 जवानों को चुना गया है। होमगार्ड के डीजी नीलमणि के अनुसार विशेष बटालियन में फिलहाल होमगार्ड की तीन कंपनियां शामिल की जा रही हैं। इसमें एक कंपनी को सांप्रदायिक दंगो से निपटने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा।

आवश्यतानुसार उन्हें प्रतिनियुक्त किया जाएगा। इसके अलावा होमगार्ड के विशेष बटालियन में शामिल जवानों को आपदा प्रबंधन और कमजोर वर्ग की सुरक्षा में भी लगाया जाएगा। बिहार में यह नया प्रयोग है। विशेष बटालियन में चयनित होने वाले होमगार्ड को अतिरिक्त भत्ता देने का प्रस्ताव है।

विशेष बटालियन को वाहन और अत्याधुनिक उपकरणों से भी लैस किया जाएगा। आगे उनकी बेहतर ट्रेनिंग के लिए नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स(एनडीआरएफ) और रैपिड एक्शन फोर्स (रैफ)से भी मदद ली जाएगी। इसके पहले बीएमपी में भी एंटी राइट फोर्स का गठन किया गया है।

बीएमपी की एक कंपनी को फिलहाल इसमें शामिल किया गया है। पिछले दिनों बीएमपी में इसका डेमोंस्ट्रेशन भी कराया गया था। बिहटा में ट्रेन जलाने की घटना के बाद ही राज्य पुलिस मुख्यालय ने एंटी राइट फोर्स के गठन की प्रक्रिया शुरू की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:होमगार्ड को दंगों से निपटने की विशेष ट्रेनिंग