class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुलावठी में पुलिस हिरासत में मौत पर फूटा आक्रोश

बुलंदशहर जिले के गुलावठी थाना पुलिस की हिरासत में हुई युवक की मौत के मामले में शुक्रवार को फिर ग्रामीणों ने मेरठ-बदायूं हाइवे जाम कर दिया। लोगों ने दोषियों पुलिस कर्मियों की गिरफ्तारी की मांग की। पुलिस ने इस मामले में थानाध्यक्ष समेत सात पुलिसकर्मियों पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया है।

फरार इन पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया। एडीजी पश्चिमी यूपी ने घटना की जानकारी ली और दोषी पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी के निर्देश दिये। इस मामले की डीजीपी ने भी जानकारी ली। गुलावठी में पुलिस हिरासत में शिवकुमार की मौत से गुस्साए ग्रामीणों ने शुक्रवार को भी तीन घंटे जाम लगाया और मेरठ-बदायूं राजमार्ग पर हंगामा किया।

ग्रामीणों को पुलिस अफसरों ने आश्वासन दिया कि दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ  हत्या की धाराओं में मुकदमा कायम कर लिया है। एसओ को रात ही निलंबित कर दिया था। सभी आरोपी पुलिसकर्मी फरार है।

उनकी गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे है। इस आश्वासन पर लोग शांत हुए। पुलिस हिरासत में मरे शिवकुमार के पिता सुरेंद्र कुमार शर्मा ने पुलिसकर्मियों पर उनके बेटे की बाइक और मोबाइल लूट के फर्जी मामले में फंसाने का भी आरोप लगाया।

दूसरी ओर शिवकुमार की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पुलिसिया ज्यादती का खुलासा हो गया। मृतक के शरीर पर चोट के 17 निशान पाये गए है। उनमें कुछ निशान सिगरेट से दागे जाने के भी है। आईजी रेंज मोहम्मद जावेद अख्तर के मुताबिक इस मामले में एसओ को रात ही निलंबित कर दिया था।

छह अन्य पुलिसकर्मियों दो दारोगा और चार सिपाहियों को आज निलंबित कर दिया गया। इन सबके खिलाफ मुकदमा कायम करने के साथ ही मानवाधिकार आयोग को भी रिपोर्ट भेज दी गई है।

उन्होंने बताया मामले की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं। इस मामले की एडीजी पश्चिमी एके जैन ने एसएसपी बुलंदशहर से जानकारी ली। उन्होंने हिन्दुस्तान को बताया कि दोषी पुलिस कर्मियों की गिरफ्तारी और सख्त कार्रवाई के निर्देश दिये है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गुलावठी में पुलिस हिरासत में मौत पर फूटा आक्रोश