class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस अलग तेलंगाना राज्य बनाने के रुख पर कायम: मोइली

कांग्रेस अलग तेलंगाना राज्य बनाने के रुख पर कायम: मोइली

  आंध्र प्रदेश में तेलंगाना क्षेत्र के 13 कांग्रेसी मंत्रियों द्वारा पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को इस्तीफा भेजे जाने के बाद राजनीतिक संकट गहराने के बीच केंद्र ने उन्हें शांत करने का प्रयास करते हुए कहा कि राज्य के मुद्दे पर उसके रुख में कोई बदलाव नहीं आया है।

आंध्र प्रदेश के पार्टी प्रभारी कानून मंत्री एम वीरप्पा मोइली ने कहा कि तेलंगाना मुद्दे पर केंद्र सरकार के रवैये में कोई बदलाव नहीं आया है।

उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश की अन्य पार्टियों ने अलग राज्य के मुद्दे पर यूटर्न लिया है जिन्होंने राज्य के विभाजन संबंधी प्रस्ताव का विधानसभा में समर्थन करने का वादा किया था।

मोइली ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री के रोसैया द्वारा सात दिसंबर को बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में कहा था कि वे विधानसभा में प्रस्ताव का समर्थन करेंगे। अब उन लोगों ने यू टर्न लिया है।

मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार राजशाही नहीं है। हमें लोकतांत्रिक प्रकिया स्थापित करनी होती है और यह सिर्फ विचार विमर्श से ही संभव है तथा भारत सरकार हमेशा सहायक की भूमिका निभाना चाहती है।

पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी को इस्तीफा फैक्स करने वाले तेलंगाना के कांग्रेस सांसदों ने मोइली के बयान का स्वागत किया और कहा कि केंद्र को राज्य के गठन के लिए एक समय-सीमा घोषित करनी चाहिए।

आंध्र कांग्रेस सांसद फोरम के संयोजक पी प्रभाकर ने तिरुपति से बताया कि हम बयान से खुश हैं लेकिन तेलंगाना के लोग चाहते हैं कि केंद्र अलग राज्य की स्थापना के लिए एक समयसीमा की घोषणा करे।

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस सांसदों ने गुरुवार को वरिष्ठ पार्टी नेता अहमद पटेल से भेंट की थी और उन्होंने मांग की थी कि पार्टी को गह मंत्री के बयान से पैदा को दूर करना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तेलंगाना मामले में कांग्रेस के रुख में परिवर्तन नहीं: मोइली