DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नलकूपों पर पंप लगाने को विशेष वित्तीय मदद

हरियाणा सरकार ने कृषि क्षेत्र में बिजली संरक्षण के लिए एक विशेष योजना शुरू की है। इसके तहत किसानों को अपने नलकूपों पर कम से कम चार सितारा रेटिंग वाले पंपसेट लगाने पर 400 रुपये प्रति हॉर्सपॉवर की दर से वित्तीय सहायता उपलब्ध कराई जाएगी।

बिजली एवं अक्षय ऊर्जा मंत्री महेन्द्र प्रताप सिंह ने वीरवार को यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि उन्हाेंने कहा कि चालू वित्त वर्ष के दौरान इस योजना के तहत सब्सिडी उपलब्ध करवाने के लिए 92.50 लाख रुपये का प्रावधान किया गया है।

राज्य में किसान आईएसआई मार्का/सितारा रेटिड पपसेंटों की बजाय लोकल पंपसेटों का उपयोग करते हैं। इन लोकल पंपसेटों के स्थान पर आईएसआई मार्का पंपसेट लगाकर लगभग 30 से 35 प्रतिशत तक बिजली की बचत की जा सकती है।

इसके अतिरिक्त, आईएसआई रिफ्लेक्स वाल्व लगाकर 90 डिग्री बैंड के स्थान पर आरपीवीसी पाइप के साथ लंबा बैंड लगाकर तथा जल निकासी पाइप की ऊंचाई जमीन से तीन फुट पर रखकर भी 10 से 15 प्रतिशत तक की बिजली बचाई जा सकती है।

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि फीडरों पर लोड का भार, लंबी दूरी की दूसरी लाइनें  तथा बिजली मोटर पपसेटों का उचित रखरखाव व संचालन न करना भी लाइन लॉसिज का कारण बनता है, जिससे वोल्टेज गिरने के कारण बार-बार मोटर जल जाती है और परिणामस्वरूप किसानों को मोटरों की दोबारा वायरिंग के लिए अतिरिक्त वित्तीय भार वहन करना पड़ता है। इसलिए पानी की सही निकासी के लिए उन्हें उच्च क्षमता की मोटरें लगानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि परंपरागत संसाधनों से राज्य द्वारा लगभग 4 हजार मेगावॉट बिजली का उत्पादन किया जा रहा है और 35 प्रतिशत बिजली कृषि क्षेत्र को 35 रुपये प्रति हॉर्सपॉवर प्रति माह की दर से सब्सिडी दी जा रही है।

उन्होंने कहा कि ऊर्जा सेवा कंपनी को सब्सिडी में बचत के आधार पर वार्षिक भुगतान किया जाएगा। विभाग कृषि क्षेत्र में भी ऊर्जा सेवा कंपनी के माध्यम से ऊर्जा संरक्षण के विकल्प की संभावनाओं का पता लगाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नलकूपों पर पंप लगाने को विशेष वित्तीय मदद