DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जल आपूर्ति के लिए 10.21 करोड़ की योजना


हरियाणा सरकार ने महेन्द्रगढ़ जिले के 23 गांवों में जलापूर्ति परियोजनाओं के संर्वद्घन के  लिए 10.21 करोड़ रुपये की परियोजना शुरू की है। यह परियोजना भू-जल तथा नहरी जल आधारित होगी। इनमें गुढ़ा, ढाड़ौत, भोजावास, मंदोला, बलाना, सौहाला, नागल माला, चेलावासा, गोमला, माजराखुर्द, कोटिया, कारिडा, बागौत ग्रुप, जटवास ग्रुप तथा खेड़ी तलवाड़ा ग्रुप की 15 योजनाएं शामिल हैं।

जन स्वास्थ्य मंत्री रणदीप सिंह सुरजेवाला ने वीरवार को यहां बताया कि इस योजना के लिए नाबार्ड द्वारा धन उपलब्ध करवाया जाएगा और यह योजना तीन वर्ष में पूरी की जाएगी। योजना क्रियान्वित होने के साथ ही इन गांवों की पेयजल आपूर्ति में सुधार होगा। इससे लगभग 59279 व्यक्तियों को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध होगा।

उन्होंने कहा कि महेन्द्रगढ़ जिले में पीने के पानी की समस्या है। जिले में अधिकतर योजना नलकूपों के साथ-साथ नहरी पानी पर भी आधारित है। विगत कुछ वर्षो में भू-जल स्तर तेजी से घट रहा है, फलस्वरूप नलकूपों के पानी में भी निकासी घटी है और कुछ नलकूप बेकार हो गये है।

उन्होंने कहा कि 70 लीटर प्रति व्यक्ति प्रतिदिन पानी की स्थिति को हासिल करने के लिए जनसंख्या में वृद्घि तथा लंबे समय तक नहर बंद होने के कारण कुछ योजनाओं का संर्वद्घन अति आवश्यक था। इसके मद्देनजर ही सरकार ने यह योजना तैयार की है।

सुरजेवाला ने कहा कि नाबार्ड ने अब तक 503.44 करोड़ रुपये की 1488 गांवों के लिए 720 पेयजल परियोजनाएं स्वीकृत की हैं, जिनमें से मार्च तक 1163 गावों की योजनाएं आरंभ की जा चुकी हैं, शेष गांव की परियोजनाएं वर्ष अगले साल कार्य शुरू किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जल आपूर्ति के लिए 10.21 करोड़ की योजना