class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फर्जीवाड़ा में पकड़े गए 209 गुरुजी

प्राथमिक विद्यालयों में फर्जीवाड़ा करके गुरुजी ने नौकरी तो पा ली लेकिन प्रमाणपत्रों की जाँच के दौरान फर्जीवाड़े की पोल खुल गई। इसकी चपेट में 209 गुरुजी फँस गए हैं। इनके खिलाफ संबंधित जिले के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने एफआईआर दर्ज करवा दी है।

विशिष्ट बीटीसी-2007 के 1,95,0967 शिक्षक-शिक्षिकाओं ने प्रदेश के विभिन्न जिलों के प्राथमिक विद्यालयों में नौकरी पाई है। संबंधित जिले के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों ने नए शिक्षक-शिक्षिकाओं की नौकरी मिलने के बाद उनके हाईस्कूल, इण्टरमीडिएट, स्नातक और बीएड डिग्रियों की जाँच यूपी बोर्ड सहित संबंधित बीएड कॉलेज से शुरू करवाई।

पहले चरण के प्रमाण पत्रों की जाँच के दौरान पाया गया कि  209 शिक्षक-शिक्षिकाओं ने नौकरी के दौरान हाईस्कूल, इण्टरमीडिएट और स्नातक के फ र्जी अंक पत्र लगाए थे। फ र्जीवाड़ा करने वालों के बीएड के प्रमाणपत्र सही थे।

इसमें सबसे ज्यादा मामले गोखरपुर जिले के 141, संत कबीर नगर के 12, सिद्धार्थनगर के 13, एटा के 99, लखीमपुर खीरी के दो, रायबरेली और लखनऊ के एक-एक मामले हैं, जबकि अन्य जिलों में विशिष्ट बीटीसी-07 के अभ्यर्थियों के प्रमाणपत्रों की जाँच अभी चल रही है। यह जाँच जनवरी के दूसरे हफ्ते तक पूरी होने की संभावना है।

मामले की जानकारी होने के बाद बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव दिनेश कन्नौजिया ने संबंधित जिलों के बीएसए को निर्देश दिया है कि फ र्जीवाड़ा करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर मामले की जानकारी शासन को दी जाए जिससे उनको बर्खास्त करने की कार्रवाई शुरू की जा सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फर्जीवाड़ा में पकड़े गए 209 गुरुजी